DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रैपिड रेल के लिए पैसे देने के लिए राजी हुई दिल्ली सरकार

रैपिड रेल

दिल्ली-मेरठ रैपिड रेल ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) को लेकर सारी अड़चन दूर हो गई है। दिल्ली सरकार अपने हिस्से के पैसे देने के लिए तैयार है। इसे लेकर परिवहन विभाग ने कैबिनेट नोट तैयार किया है, जिसे वित्त विभाग से हरी झंडी मिल गई है। अब बस कैबिनेट की मंजूरी का इंतजार है। कैबिनेट की मंजूरी मिलते ही दिल्ली सरकार पहली किश्त जारी कर देगी।

आरआरटीएस को वर्ष 2025 तक पूरा करना है। इसके शुरू होने से दिल्ली-मेरठ का सफर महज 55 मिनट में पूरा हो सकेगा। सूत्रों के मुताबिक, कैबिनेट नोटमें आरआरटीएस के लिए दिल्ली सरकार की कुल हिस्सेदारी 3600 करोड़ रुपये बताई गई है। यह राशि सरकार छह साल में छह किश्तों में देगी। इससे प्रत्येक वर्ष खजाने पर 500 करोड़ रुपये का अतिरिक्त भार पड़ेगा।

इसलिए नाराज थी दिल्ली सरकार

आरआरटीएस के तहत सराय काले खां पर बनाए जाने वाले स्टेशन के डिजाइन में केंद्र सरकार ने दिल्ली सरकार को बताए बिना ही बदलाव को मंजूरी दे दी। इस कारण सराय काले खां में पीपीपी मॉडल के तहत प्रॉपर्टी डेवलपमेंट करके दिल्ली सरकार को मिलने वाले राजस्व का उसे नुकसान हो गया। नाराज दिल्ली सरकार ने बीते साल पैसे की कमी बताकर अपना हिस्सा देने से मना कर दिया था। मगर, सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप के बाद सरकार ने पर्यावरण कर से 265 करोड़ रुपये का भुगतान नेशनल रीजन रैपिड ट्रांसपोर्ट कार्पोरेशन (एसीआरटीसी) को पहले ही कर दिया है। अब कैबिनेट नोट को मंजूरी मिलते ही बचे पैसे जारी किए जाएंगे। 

समिति गठित

दिल्ली-मेरठ कॉरिडोर के निर्माण में और तेजी लाने के लिए दिल्ली सरकार ने मेट्रो फेज-3 की तर्ज पर मुख्य सचिव की अध्यक्षता में 20 सदस्यीय समिति गठित की है। 

गाजियाबाद में शुरू हो गया है काम

दिल्ली-मेरठ के बीच रैपिड रेल का काम गाजियाबाद में शुरू हो गया है। पहले चरण में गुलधर के पास एनसीआरटीसी ने काम शुरू किया है। 

रैपिड को मेट्रो रेल से जोड़ा जाएगा

रैपिड रेल सराय काले खां के साथ-साथ, अशोकनगर और आनंदविहार में मेट्रो रेल के साथ जुड़ेगी। आनंदविहार और सराय काले खां पर रैपिड रेल के प्लेटफॉर्म से भारतीय रेल तक पहुंचा जा सकेगा। इसे दोनों जगह बस अड्डे से भी जोड़ा जाएगा। 

यात्रियों की सुविधा का पूरा ख्याल 

एनसीआरटीसी ने ऐसी योजना बनाई है जिससे यात्रियों को रैपिड रेल से उतरने के बाद परिवहन के दूसरे साधन तक पहुंचने में कोई परेशानी ना हो। इसके लिए अन्य सभी साधनों को आपस में जोड़ा जाएगा। 

गर्लफ्रेंड के लिए फैलाई थी विमान हाईजेक की अफवाह,अब जीवन कटेगा जेल में

अंतरिक्ष में दुश्मनों को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए नई एजेंसी को मंजूरी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Delhi Government agreed to pay for Rapid Rail