DA Image
22 अप्रैल, 2021|5:12|IST

अगली स्टोरी

मेष

21 अप्रैल 2021

मन अशान्त रहेगा। कारोबार का विस्तार होगा। परिश्रम अधिक रहेगा। पारिवारिक जीवन सुखमय रहेगा। सेहत का ध्यान रखें। माता को स्वास्थ्य विकार हो सकते है। नौकरी में यात्रा का कार्यक्रम बन सकता है। संतान की ओर से सुखद समाचार मिलेंगे। 
(पं.राघवेन्द्र शर्मा)

मेष

22 अप्रैल 2021

संयत रहें। अपनी भावनाओं को वश में रखें। जीवनसाथी के स्वास्थ्‍य का ध्यान रखें। माता-पिता का साथ मिलेगा। मन में निराशा एवं असन्तोष के भाव रहेंगे। नौकरी में स्थान परिवर्तन की सम्भावना बन रही है। आय में वृद्धि होगी। व‍िवादों से बचें।(पं.राघवेन्द्र शर्मा)

मेष

23 अप्रैल 2021

सन्तुलित रहें। धैर्यशीलता बनाए रखने के प्रयास करें। नौकरी में तरक्की के अवसर मिलेंगे। आय में वृद्धि होगी। सेहत का ध्यान रखें। मन अशान्त रहेगा। आत्मविश्वास में कमी रहेगी। परिवार में आपसी मतभेद हो सकते हैं। मित्रों का सहयोग मिलेगा। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)

मेष

week17-2021

Not found

मेष

1 अप्रैल 2021

मास के प्रारंभ में मन अशांत रहेगा। धैर्यशीलता में कमी रहेगी। छह अप्रैल से शैक्षिक कार्यों में सुधार होगा। बौद्धिक कार्यों से आय के साधन बन सकते हैं। 11 अप्रैल से पारिवारिक जीवन सुखमय रहेगा। दांपत्य सुख में वृद्धि होगी। 14 अप्रैल से संतान के स्वास्थ्य में सुधार होगा। खर्चों में कमी आएगी, परंतु कारोबार में परिवर्तन हो सकता है। (पंडित राघवेंद्र शर्मा)

मेष

1 जन॰ 2021

मेष-(21 मार्च - 20 अप्रैल)
वर्ष के प्रारंभ में आत्मविश्वास से परिपूर्ण तो रहेंगे, परंतु मन परेशान भी हो सकता है। परिवार में व्यर्थ के वाद-विवाद से बचें। चार जनवरी से जीवनसाथी के स्वास्थ्य में सुधार होगा। वाहन प्राप्ति के योग भी बनेंगे। कारोबार की स्थिति निरंतर मजबूत होती रहेगी। पिता का सहयोग मिलता रहेगा। खर्च अपेक्षाकृत कम ही रहेंगे, परंतु जीवनशैली का ध्यान रखें। जीवनशैली में व्यवधान आ सकते हैं। 17 मार्च से पुनः जीवनसाथी के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। कुटुम्ब की किसी बुजुर्ग महिला का स्वास्थ्य भी खराब हो सकता है। खर्च अधिक रहेंगे। नौकरी में किसी मित्र के सहयोग से परिवर्तन के अवसर मिल सकते हैं। किसी दूसरे स्थान पर भी जाना पड़ सकता है। छह सितंबर से अपने स्वास्थ का ध्यान रखें। 15 सितंबर से धार्मिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ सकती है। शैक्षिक कार्यों में सफलता मिलेगी। किसी रुके हुए धन की प्राप्ति हो सकती है।
उपाय-
1. प्रत्येक मंगलवार के दिन रोटी में गुड़ रखकर गाय को खिलाएं।
2. प्रत्येक बुधवार के दिन हरी सब्जी गाय को खिलाएं अथवा गणपति पर दुर्वा घास अर्पित करें।
3. प्रत्येक शुक्रवार के दिन एक मुट्ठी चावल लेकर किसी बर्तन में इकट्ठा करते रहें। एक किलो के लगभग होने पर मंदिर के पुजारी को दे दें।