अगली स्टोरी

एक अध्यापक जो समाज के लिए था

एक अध्यापक जो समाज के लिए था

महात्मा गांधी को याद करते हुए आइंस्टीन ने कहा था कि आने वाली नस्लों को यह विश्वास ही नहीं होगा कि उनके जैसा हाड़-मांस का कोई पुतला भी पृथ्वी नामक ग्रह पर कभी रहा होगा। महामानव का असाधारण होना बहुत...

संता की इच्छा पूरी होगी या नहीं

संता मंदिर के बाहर बैठा रो रहा था

बंता – भाई क्या परेशानी है मुझे बताओ?

संता – जो मेरी एक इच्छा पूरी करेगा
उसको 1 लाख रुपया दूंगा

बंता – ओ तेरी जल्दी बता अपनी एक इच्छा

संता –
.
.
.
.
मुझे 2 लाख रुपये चाहिए...