ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRनोएडा में थूक मिलाकर बेच रहे थे जूस, समुदाय विशेष के दो आरोपी गिरफ्तार

नोएडा में थूक मिलाकर बेच रहे थे जूस, समुदाय विशेष के दो आरोपी गिरफ्तार

नोएडा पुलिस ने दो लोगों को थूक मिलाकर जूस बेचने के आरोप में गिरफ्तार किया है। कथित घटना शनिवार शाम सेक्टर 121 में गढ़ी चौखंडी गांव के पास स्थित जूस की एक दुकान पर हुई। पढ़ें यह रिपोर्ट...

नोएडा में थूक मिलाकर बेच रहे थे जूस, समुदाय विशेष के दो आरोपी गिरफ्तार
Krishna Singhभाषा,नोएडाMon, 17 Jun 2024 01:00 AM
ऐप पर पढ़ें

नोएडा के सेक्टर 121 में समुदाय विशेष के दो आरोपियों को थूक मिलाकर जूस बेचने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। अधिकारियों ने बताया कि कथित घटना शनिवार शाम सेक्टर 121 में गढ़ी चौखंडी गांव के पास स्थित जूस की एक दुकान पर हुई, जब स्थानीय निवासी सतीश भाटिया वहां जूस पीने गए थे।

पुलिस प्रवक्ता ने बताया कि रविवार सुबह स्थानीय फेज 3 पुलिस थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई और बाद में सेक्टर 121 में स्थित क्लियो काउंटी सोसाइटी के पास से दोनों आरोपियों- जमशेद (30) और सोनू उर्फ ​​साहबे आलम को पुलिस हिरासत में ले लिया गया।

पुलिस को दी शिकायत में क्षितिज भाटिया ने बताया कि वह सेक्टर-121 स्थित क्लियो काउंटी सोसाइटी में रहते है। वह शनिवार शाम पत्नी के साथ सोसाइटी के गेट नंबर एक के बाहर गन्ने का जूस बेचने वाले के पास गए थे। वहां दो ग्लास गन्ने के जूस का ऑर्डर किया तो जूस बेचने वाला ग्लास में तीन से चार बार थूककर जूस दे रहा था। 

इसका विरोध किया तो आरोपी ने अभद्रता की। पीड़ित ने बताया कि घटना के बाद जब वह विरोध करने लगे। इस दौरान आरोपी अपना स्टॉल छोड़कर वहां से भाग गया। पीड़ित ने बताया कि यह घटना उनके धार्मिक के साथ ही स्वास्थ्य के लिए असहनीय प्रक्रिया है। 

एडीसीपी सेंट्रल नोएडा हृदेश कठेरिया ने बताया कि पीड़ित से शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज करते हुए आरोपी शाहेब आलम और जमशेद खान को हिरासत में ले लिया है। दोनों आरोपी मूलरूप से बहराइच के रहने वाले हैं। जो पिछले काफी समय से शहर में रहकर गन्ने के जूस का ठेला लगा रहे थे। पुलिस दोनों आरोपियों से मामले को लेकर पूछताछ कर रही है।

प्रवक्ता ने बताया कि मामले में आरोपियों के खिलाफ उपयुक्त कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी गई है। आरोपियों पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 153ए(1)(बी) (सार्वजनिक शांति भंग करना), 270 (जीवन के लिए खतरनाक बीमारी का संक्रमण फैलाने का घातक कृत्य) और 34 (समान मंशा से कई व्यक्तियों द्वारा किए गए कृत्य) के तहत मामला दर्ज किया गया है।