ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News झारखंड देवघरपाटलिपुत्र एक्सप्रेस के ठहराव को मथुरापुर स्टेशन पर धरना-प्रदर्शन

पाटलिपुत्र एक्सप्रेस के ठहराव को मथुरापुर स्टेशन पर धरना-प्रदर्शन

- एक्सप्रेस व पैसेंजर ट्रेन स्टॉपेज बहाल करने की मांग - एक्सप्रेस व पैसेंजर ट्रेन स्टॉपेज बहाल करने की मांग - कोरोना काल से ही रद्द है स्टॉपेज,...

पाटलिपुत्र एक्सप्रेस के ठहराव को मथुरापुर स्टेशन पर धरना-प्रदर्शन
हिन्दुस्तान टीम,देवघरTue, 26 Sep 2023 03:50 AM
ऐप पर पढ़ें

जसीडीह प्रतिनिधि
पूर्व रेलवे आसनसोल डिविजन के मधुपुर-जसीडीह रेलखंड के मथुरापुर रेलवे स्टेशन पर पटना-हटिया पटना पाटलिपुत्र एक्सप्रेस समेत पैसेंजर ट्रेन ठहराव की मांग लेकर सोमवार को ग्रामीणों ने शांतिपूर्ण धरना-प्रदर्शन किया। धरना-प्रदर्शन के दौरान दर्जनों गांवों के महिला-पुरुष शामिल थे। सोमवार को ग्रामीणों ने स्टेशन पहुंचकर शांतिपूर्ण ढंग से धरना-प्रदर्शन कर मंडल रेल प्रबंधक सहित रेल विभाग के अधिकारियों के नाम धरनास्थल पर मौजूद दंडाधिकारी तरुण कुमार, स्टेशन प्रबंधक मधुपुर व रेल इंस्पेक्टर धर्मेंद्र प्रसाद को ज्ञापन सौंपा। धरना के दरम्यान किसी ट्रेनों के परिचालन में बाधा नहीं पहुंची। मौके पर नागरिक मंच के जनार्दन प्रसाद पांडेय ने कहा कि कोरोना काल के बाद सरकार द्वारा राजनीतिक, सामाजिक कार्यक्रमों के साथ विभिन्न संस्थाएं व ट्रेन परिचालन शुरू कर दी गई, मगर मथुरापुर स्टेशन पर एक्सप्रेस व पैसेंजर ट्रेन का पूर्व के स्टॉपेज बहाल नहीं किया गया। इस कारण क्षेत्र के लोगों, व्यवसायियों और छात्राओं को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इस संबंध में कई बार रेल मंत्री, पूर्व रेलवे कोलकाता और मंडल रेल प्रबंधक आसनसोल डिविजन को पत्र लिखकर शिकायत पूर्व में की जा चुकी थी। बावजूद रेलवे द्वारा सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। रेलवे ने फैसले पर पुनर्विचार कर ट्रेन का ठहराव शुरू नहीं किया। रेलवे को स्टेशन से राजस्व का पूरा लाभ मिलने के बाद भी ट्रेन ठहराव बंद करना तर्कसंगत नही है। क्षेत्र की एक लाख जनसंख्या को ट्रेन सेवा से वंचित कर दिया गया है। इससे ग्रामीणों में आक्रोश है। कहा कि स्टेशन पर अन्य दो ट्रेनें सियालदह-मुजफ्फरपुर फ़ास्ट पैसेंजर का ठहराव भी बंद कर दिया गया है। रेलवे ने अपने फैसले पर पुनिर्विचार नहीं किया तो पुनः आमजन से सहयोग और विचार परामर्श कर जोरदार आंदोलन के लिए बाध्य होंगे।

50 गांवों के ग्रामीणों के जुटान का दावा : धरना-प्रदर्शन में मथुरापुर रेलवे स्टेशन के आसपास के 50 गांवों की जनता के जुटने का दावा किया गया। मौके पर मासस जिला अध्यक्ष रघुपति पंडित समेत बद्री राय, निर्मल राय, गौतम राय, सुशील कुमार पांडेय, सीताराम गोस्वामी, अयोधया यादव, जमुना यादव, अरविंद पांडेय, लक्ष्मी-नारायण नोनिया, संजय यादव, कमरूद्दीन अंसारी, बीरबल पांडेय, नंदलाल हांसदा, सुनील दास, संजय हेंब्रम, मो. मकसूद आलम, जाकिर मियां, जयराम राय, बेलिया देवी, मालती देवी, लुगुमुनि हेंब्रम, छोटकी कोल, भोला महतो, लिली कोल, सुगिया देवी, गिरजा महतो, राजेन्द्र कुशवाहा, बह्मदेव साह, रंजीत वर्णवाल, लखी राय, महेश वर्णवाल, गौरी शंकर वर्णवाल, कंचन वर्मा, मंटू दास, अशोक मंडल, दयानन्द पांडेय सहित अन्य मौजूद थे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
अगला लेख पढ़ें