DA Image
Friday, November 26, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विदेशआतंक पर नकेल कसने के बजाए बढ़ावा दे रहा पाकिस्तान, रिपोर्ट से हुआ खुलासा

आतंक पर नकेल कसने के बजाए बढ़ावा दे रहा पाकिस्तान, रिपोर्ट से हुआ खुलासा

एएनआई,इस्लामाबादAditya Kumar
Thu, 25 Nov 2021 02:01 PM
आतंक पर नकेल कसने के बजाए बढ़ावा दे रहा पाकिस्तान, रिपोर्ट से हुआ खुलासा

पाकिस्तान एक बार फिर अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की आंखों में धुल झोंकते हुए आतंकियों को शह दे रहा है। पाकिस्तान आतंकवाद को हराने के बजाए उसे बढ़ावा देता दिख रहा है। 7 नवंबर को पाकिस्तान की एक अदालत ने 2008 के मुंबई आतंकवादी हमले के मास्टरमाइंड सहित छह आतंकवादियों को मुक्त कर दिया। न्यूज एजेंसी एएनआई ने इनसाइड ओवर के हवाले से बताया है कि इन आतंकियों की पहचान प्रोफेसर मलिक जफर इकबाल, नसरुल्ला, समीउल्लाह, याह्या मुजाहिद, हाफिज अब्दुल रहमान मक्की और उमर बहादुर के रूप में हुई है। रिपोर्ट के मुताबिक मक्की को छोड़कर, सभी पांचों आतंकवादियों को नौ साल कैद की सजा सुनाई गई थी।

नाम बदलकर जांच से बच रहे आतंकी संगठन?

रिपोर्ट के मुताबिक इन 6 आतंकियों का मेंटर यूनाइटेड नेशंस द्वारा नामित आतंकी हाफिज सईद है। बता दें कि हाफिज सईद लश्कर-ए-तैयबा और जमात-उद-दावा जैसे आतंकी संगठनों का संस्थापक है। हाफिज को पाकिस्तान में कई बार दोषी बताया गया और फिर मुक्त कर दिया गया है। वह जब भी पाकिस्तान सरकार के विरोध में कुछ कहा है तो उसे नजरबंद कर दिया गया है। ऐसी रिपोर्ट भी हैं कि पाकिस्तान में आतंकी समूह जांच से बचने के लिए अपने संगठन का नाम बदलते रहते हैं क्योंकि यूनाइटेड नेशंस की काउंटर-टेररिज्म आर्गेनाइजेशन ने जांच का दायरा बढ़ाना शुरू कर दिया है।

पाकिस्तान ने आतंकी निगरानी सूची से हजारों नाम हटाए?

अप्रैल 2021 में न्यूयॉर्क स्थित आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस स्टार्ट-अप कैस्टेलम ने खुलासा किया था कि पाकिस्तान ने चुपचाप अपनी आतंकी निगरानी सूची से लगभग 4,000 आतंकियों के नाम हटा दिए हैं। हटाए गए नामों में लश्कर नेता और मुंबई हमले का मास्टरमाइंड जाकिर उर रहमान लखवी और कई अन्य शामिल हैं। कैस्टेलम ने खुलासा किया है कि फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) ने अक्टूबर 2018 में देश की आतंकी निगरानी सूची में 7,600 नाम रखे थे। लेकिन 9 और 27 मार्च के बीच के आंकड़ों से पता चला है कि पाकिस्तान ने प्रतिबंधित व्यक्तियों की सूची से 1,069 नाम हटा दिए और वे सभी नाम देश की डी-नोटिफाइड लिस्ट में दिखाई दिए हैं।

2020 में यूनाइटेड नेशंस कमिटी ने हाफिज सईद को अपने परिवार की मदद के लिए अपने बैंक खाते का इस्तेमाल करने की इजाजत दी थी। संयुक्त नेशंस कमिटी ने कहा कि हाफिज सईद के बुनियादी खर्चों के लिए पाकिस्तान के अनुरोध पर कोई आपत्ति नहीं होने पर, अध्यक्ष ने अपील को मंजूरी दे दी है। इससे पहले, हाफिज सईद के बैंक खातों को पाकिस्तानी सरकार ने UNSC के प्रस्ताव का अनुपालन करते हुए फ्रीज कर दिया था।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें