ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ झारखंड चक्रधरपुरचक्रधरपुर रेल मंडल के सहयोग से दपू रेलवे में कोयला ढुलाई की आय में 63 % की बढ़ोत्तरी

चक्रधरपुर रेल मंडल के सहयोग से दपू रेलवे में कोयला ढुलाई की आय में 63 % की बढ़ोत्तरी

चक्रधरपुर। चक्रधरपुर रेल मंडल ने लगातार माल ढुलाई में नए कीर्तिमान गढ़ा है।

चक्रधरपुर रेल मंडल के सहयोग से दपू रेलवे में कोयला ढुलाई की आय में 63 % की बढ़ोत्तरी
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,चक्रधरपुरFri, 07 Oct 2022 02:30 PM
ऐप पर पढ़ें

चक्रधरपुर। चक्रधरपुर रेल मंडल ने लगातार माल ढुलाई में नए कीर्तिमान गढ़ा है। जिसके कारण दक्षिण पूर्व रेलवे ने मौजूदा वित्तीय वर्ष 2022-23 के पहले छह महीने अप्रैल से सितंबर तक कोयला ढुलाई में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज की है। इस अवधि में दक्षिण पूर्व रेलवे ने 25.51 मिलियन टन कोयले का लदान किया है, जो की पिछले वित्तीय वर्ष की तुलना में 28.06% अधिक है। फलस्वरूप कोयला लदान से होने वाली आय में भी 63% की अप्रत्याशित वृद्धि दर्ज की गई है, जो की 2672.68 करोड़ रुपये है। कुल माल ढुलाई के आंकड़ों में भी वृद्धि दर्ज की गयी है। दक्षिण पूर्व रेलवे ने चालू वित्तीय वर्ष 2022-23 के पहले छह महीनों में कुल 97.86 मिलियन टन माल ढुलाई की है। जिससे माल आय भी बढ़कर 8488.99 करोड़ रुपये हो गई है। पिछले वर्ष की इस अवधि में 7786.70 करोड़ रूपये की आय प्राप्त हुई थी। फलस्वरूप दक्षिण पूर्व रेलवे ने चालू वित्तीय वर्ष में कुल माल ढुलाई में पहले छह महीने में ही 9.02% की वृद्धि दर्ज की है। मुख्य रूप से जिन वस्तुओं की ढुलाई से आय प्राप्त हुई है उनमें कोयला, लौह अयस्क, कच्चा लोहा और तैयार स्टील, सीमेंट, पेट्रोलियम उत्पाद आदि शामिल हैं। बता दें कि पिछले दो सालों से चक्रधरपुर रेल मंडल के द्वारा ओडिशा के झारसुगुड़ा स्थित सरडेगा में बड़े पैमाने पर कोयले की ढुलाई में तेजी लायी गयी है। एमसीएल द्वारा रेल मंडल को कोयला ढुलाई का बड़ा प्रोजेक्ट दिया गया है। जिसके लिए रेलवे नयी रेल लाइन बिछाकर कोयले की ढुलाई को तेजी से बढ़ाने के लिए अग्रसर है। यही वजह है कि चक्रधरपुर रेल मंडल अब लौह अयस्क ढुलाई के बाद कोयले की ढुलाई में भी अप्रत्याशित बढ़ोत्तरी कर रहा है। जिसका सीधा फायदा दक्षिण पूर्व रेलवे के आंकड़ों को मिल रहा है। बता दें कि पूरे साल दक्षिण पूर्व रेलवे के चार रेल मंडलों की तुलना में चक्रधरपुर रेल मंडल ही एकमात्र मंडल है जो अकेले रेलवे ज़ोन का 50 प्रतिशत से अधिक माल ढुलाई कर देश को बड़ा राजस्व देता है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
epaper