ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News AstrologyBuddha purnima wishes in hindi share these quotes images Lord Buddha on Buddha Purnima

Buddha purnima wishes in hindi:बुद्ध पूर्णिमा पर भगवान बुद्ध के इन कोट्स को आप भी करें शेयर

Buddha Purnima 2024 quotes:इस दिन भगवान विष्णु के नौवें अवतार भगवान बुद्ध की पूजा अर्चना करते हैं। इसदिन दान-पुण्य का बहुत अधिक महत्व है। इस दिन उपवास रखने से ज्ञान की प्राप्ति होती है। बुद्ध पूर्णिमा

Buddha purnima wishes in hindi:बुद्ध पूर्णिमा पर भगवान बुद्ध के इन कोट्स को आप भी करें शेयर
लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 23 May 2024 06:55 AM
ऐप पर पढ़ें

इस दिन भगवान विष्णु के नौवें अवतार भगवान बुद्ध की पूजा अर्चना करते हैं। इसदिन दान-पुण्य का बहुत अधिक महत्व है। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार इस शुभ दिन पर ही गौतम बुद्ध का जन्म और उन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई थी। उनके जीवन में तीन अधिक महत्वपूर्ण घटनाएंं रही है, पहला उनका जन्म, दूसरा ज्ञान और तीसरा मोक्ष। यह सभी एक ही तिथि पर आते है। ंससार मेंं बुद्ध के विचारों को कई लोग मानते हैं। इस साल बुद्ध पूर्णिमा 23 मई को है। इस दिन उपवास रखने से ज्ञान की प्राप्ति होती है। बुद्ध पूर्णिमा पर सभी को रामायण और गीता का पाठ करना चाहिए। यह बौद्ध धर्म का महत्वपूर्ण त्योहार है। इसे बुद्ध जयंती के नाम से भी जाना जाता है। आप भी बुद्ध पूर्णिमा के मौके पर शेयर करें उनके ये कोट्स 

 बुद्धं शरणं गच्छामि। धम्मं शरणं गच्छामि

शांति भीतर से आती है। इसे बाहर मत खोजो।

मन ही सब कुछ है। आप जो सोचते हैं वही बन जाते हैं।

तीन चीजे अधिक समय तक छुपी नहीं रह सकतीं: सूर्य, चंद्रमा और सत्य।

अतीत में मत रहो, भविष्य के सपने मत देखो, मन को वर्तमान क्षण पर केंद्रित करो।

अंत में, केवल तीन चीजें मायने रखती हैं: आप कितना प्यार करते थे, आप कितनी विनम्रता से रहते थे, और कितनी शालीनता से आपने उन चीजों को जाने दिया जो आपके लिए नहीं थीं।

जिस प्रकार मोमबत्ती आग के बिना नहीं जल सकती, उसी प्रकार मनुष्य आध्यात्मिक जीवन के बिना नहीं रह सकता।

स्वास्थ्य सबसे बड़ा उपहार है, संतोष सबसे बड़ा धन है, वफादारी सबसे अच्छा रिश्ता है।"

साझा करने से खुशी कभी भी कम नहीं होती है।

जीवन में एकमात्र वास्तविक विफलता व्यक्ति के सर्वोत्तम ज्ञान के प्रति सच्चा न होना है।

घृणा, घृणा से नहीं, बल्कि प्रेम से ही समाप्त होती है, यही शाश्वत नियम है।