ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तराखंडप्रॉपर्टी डीलर का मर्डर कर UP के शूटर समेत 4 फरार, पुलिस बैरिकेडिंग को भी मारी टक्कर 

प्रॉपर्टी डीलर का मर्डर कर UP के शूटर समेत 4 फरार, पुलिस बैरिकेडिंग को भी मारी टक्कर 

पुलिस ने सात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार डीलर समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। दो शूटरों समेत चार आरोपी फरार हैं। यूपी के शूटर प्रॉपर्टी डीलर का मर्डर कर फरार हो गए।

प्रॉपर्टी डीलर का मर्डर कर UP के शूटर समेत 4 फरार, पुलिस बैरिकेडिंग को भी मारी टक्कर 
up shooter absconded after murdering property dealer also hit police barricading
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तानMon, 17 Jun 2024 08:15 PM
ऐप पर पढ़ें

उत्तर प्रदेश-यूपी के बदमाशों का आतंक खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। मामूली विवाद मे प्रॉपर्टी डीलर की गोली मारकर हत्या कर दी। फायरिं में दो लोग भी घायल हुए हैं, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस ने हत्याकांड में तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है।

जबकि, यूपी के रहने वाले बदमाश मौके से फरार है। दो शूटर समेत चार लोग फरार हैं।  रायपुर थाना क्षेत्र के डोभाल चौक के पास गढ़वाली कॉलोनी लेन-14 में रविवार देर रात को गोली मारकर प्रॉपर्टी कारोबारी रवि बडोला का मर्डर किया गया।

बेचने के लिए दी गई कार को आगे गिरवी रखने के कारण हुए विवाद में आरोपी पक्ष ने प्रॉपर्टी कारोबारी और उनके साथियों पर अंधाधुंध फायर झोंके। जिसमें प्रॉपर्टी कारोबारी के दो साथी भी घायल हुए हैं। पुलिस ने सात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार डीलर समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। दो शूटरों समेत चार आरोपी फरार हैं।

रवि बडोला उर्फ दीपक बडोला निवासी गढ़वाली कॉलोनी प्रॉपर्टी का कारोबार करते थे। एसएसपी अजय सिंह के मुताबिक रवि बडोला ने अपनी कार को बेचने के लिए डीलर सागर यादव उर्फ शंभु यादव निवासी नेहरूग्राम से डील की थी। प्रॉपर्टी कारोबारी से कार ले ली गई थी लेकिन पैसे नहीं दिए गए।

रविवार रात उक्त कार को देवेंद्र कुमार शर्मा उर्फ सोनू भारद्वाज पुत्र इंद्र कुमार शर्मा निवासी गढ़वाली कॉलोनी के घर के पास खड़ा किया गया था। सागर यादव भी वहीं मौजूद था। पैसे न मिलने के कारण रवि बडोला रविवार देर रात अपनी कार को वापस लेने सोनू भारद्वाज के घर गए।

रवि बडोला ने अपने साथ परिचित सुभाष क्षेत्री निवासी अपर नेहरूग्राम और मनोज नेगी उर्फ मन्नू निवासी डोभाल चौक, रायपुर को साथ लिया। तीनों सोनू भारद्वाज के घर के बाहर पहुंचे। वहां सोनू के साथ उसका भाई मोनू भारद्वाज और रामबीर निवासी मुजफ्फरनगर, योगेश निवासी मेरठ, मनीष निवासी पटना, बिहार और अंकुश निवासी शिवलोक कॉलोनी देहरादून मौजूद थे।

आरोप है कि वहां पहुंचते ही तीनों पर आरोपी पक्ष के लोगों ने अंधाधुंध फायर झोंके। फायरिंग में रवि बडोला के गले और पेट में गोली लगी। वह भागते हुए आरोपियों के घर से करीब 200 मीटर दूर बरसाती नाले में जा गिरे। वहां सोमवार सुबह करीब छह बजे उनका शव मिला।

सुभाष क्षेत्री के हाथ और कमर में, मनोज नेगी को भी एक गोली लगी। सुभाष और मनोज नेगी का गंभीर हालत में एक निजी अस्पताल में उपचार चल रहा है। घायलों में एक उत्तराखंड में डेपुटेशन पर पुलिस अफसर का करीबी है। अफसर घटनाक्रम के बाद अस्पताल में उक्त घायल का हाल जानने भी पहुंचे।

एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि सुभाष क्षेत्री के भाई सचिन क्षेत्री की तहरीर पर हमलावरों के खिलाफ हत्या, जानलेवा हमले और अन्य संबंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया। पुलिस ने हमले में शामिल आरोपी सोनू भारद्वाज, उसके भाई मोनू भारद्वाज और कार डीलर सागर यादव को गिरफ्तार कर लिया है।

गोलीबारी में शामिल दो शूटर रामबीर और मनीष कार से फरार हो गए। पुलिस ने तलाश में चेकिंग करते हुए यूपी बार्डर पर आशारोड़ी चेक पोस्ट पर बैरियर लगाया। दोनों अपनी कार से बैरियर तोड़कर भाग निकले। दो अन्य आरोपी भी फरार हैं।

पश्चिमी यूपी के शूटर शामिल-मर्डर करने के बाद फरार 
गढ़वाली कॉलोनी में रविवार हुई गोलीबारी में पश्चिमी यूपी का शूटर रामबीर और उसका साथी मनीष भी शामिल था। बताया जा रहा है कि इन दोनों ने ही असलहों से फायर किए। हमाला कर दोनों अपनी कार से आशारोड़ी बार्डर से सहारनपुर की तरफ भागे। पुलिस ने शहर के बार्डरों पर नाकेबंदी कर चेकिंग शुरू की। आरोपी आशारोड़ी बैरियर पर कार से टक्कर मारकर बैरियर तोड़कर फरार हो गए।

एसएसपी अजय सिंह ने बताया कि रामबीर और मनीष पुलिस बैरियर तोड़ने के बाद कार से सहारनपुर की तरफ हाईवे पर करीब दो किलोमीटर गए। इसके बाद सड़क किनारे अपनी कार छोड़कर लापता हो गए। दोनों के आशोरोड़ी के जंगल से होते हुए फरार होने की संभावना है। पुलिस दोनों की तलाश में जंगल में कांबिंग कर रही है।

उन्होंने बताया कि मनीष और रामबीर ने गढ़वाली कॉलोनी में पहली वारदात की। इसे लेकर उनके खिलाफ रायपुर थाने में केस दर्ज किया गया। भागते हुए क्लेमनटाउन थाना क्षेत्र स्थित आशारोड़ी पुलिस बैरियर तोड़ा। इसलिए क्लेमनटाउन में भी आरोपियों के खिलाफ पुलिस चेकिंग टीम पर जानलेवा हमला करने के प्रयास का मुकदमा दर्ज किया गया है।