DA Image
27 सितम्बर, 2020|9:44|IST

अगली स्टोरी

मीन

26 सित॰ 2020

क्षणे रुष्टा-क्षणे तुष्टा के मनोभाव रहेंगे। बातचीत में सन्तुलन बनाये रखें। कारोबार में भाई-बहन का सहयोग मिल सकता है। धर्म के प्रति श्रद्धाभाव रहेगा। धार्मिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ सकती है। परिश्रम अधिक रहेगा। परिवार का सहयोग मिलेगा। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)

मीन

27 सित॰ 2020

अपनी भावनाओं को वश में रखें। कला एवं संगीत में रुचि रहेंगी। परिवार की सेहत का ध्यान रखें। शैक्षिक कार्यों में सुधार होगा। अध्ययन में रुचि बढ़ेगी। किसी पैतृक सम्पत्ति के लिए विवाद की स्थिति बन सकती है। नौकरी में बदलाव के योग बन रहे हैं। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)

मीन

28 सित॰ 2020

क्षणे रुष्टा-क्षणे तुष्टा की मनःस्थिति रहेगी। बातचीत में संयत रहें। सन्तान की ओर से सुखद समाचार मिल सकते हैं। नौकरी में इच्छाविरुद्ध कोई अतिरिक्त जिम्मेदारी मिल सकती है। परिश्रम की अधिकता रहेगी। परिवार का सहयोग मिलेगा। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)
 

मीन

week39-2020

मीन : (19 फरवरी-20 मार्च)
मन में प्रसन्नता के भाव तो रहेंगे, फिर भी आत्म संयत रहें। क्रोध के अतिरेक से बचें, माता से वैचारिक मतभेद हो सकते हैं। नौकरी में किसी दूसरे स्थान पर जाना हो सकता है, आय में वृद्धि होगी। रहन-सहन कष्टकारी हो सकता है, अफसरों का सहयोग मिलेगा। परिवार का भी सहयोग मिलेगा, वस्त्रों आदि पर खर्चों में वृद्धि हो सकती है। माता को स्वास्थ्य विकार हो सकता है, रहन-सहन कष्टकायी हो सकता है।(पं. राघवेंद्र शर्मा)

मीन

1 सित॰ 2020

मास के प्रारंभ में मन में नकारात्मकता का प्रभाव रहेगा। 14 सितंबर से सकारात्मकता बढ़ सकती है। कुटुम्ब-परिवार में धार्मिक कार्य हो सकते हैं। कारोबार की स्थिति में सुधार होगा। परिवार में सुख शांति रहेगी। 24 सितंबर से कार्यक्षेत्र में अनुकूल परिस्थितियां रहेंगी। कारोबार के लिए विदेश यात्रा के योग बन रहे हैं। यात्रा लाभप्रद रहेगी। (पंडित राघवेंद्र शर्मा)

मीन

1 जन॰ 2020

मीन- (19 फरवरी- 20 मार्च)

वर्ष के प्रारम्भ में आत्‍मविश्‍वास से भरपूर रहेंगे। परिवार में सुख शान्ति रहेगी। 25 जनवरी के बाद आय में वृद्धि होगी। परन्तु शैक्षिक कार्यों में कठिनाई आ सकती हैं। सन्तान को कष्ट होगा। दो फरवरी से धैर्यशीलता में कमी आएगी। लेखनादि, बौद्धिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ सकती है। 12 मई से नौकरी में कठिनाइयां आ सकती हैं। 30 सितम्बर के बाद सुधार होगा। विदेश यात्रा के अवसर मिल सकते हैं। धार्मिक कार्यों एवं पूजा-पाठ में व्यवधान आ सकते हैं। 21 नवम्बर के बाद कार्यक्षेत्र में तरक्‍की हो सकती है। कार्यक्षेत्र में अनुकूल परिस्थितियां रहेंगी। मान-सम्मान में वृद्धि होगी। शासन सत्ता का सहयोग मिलेगा। सन्तान की ओर से सुखद समाचार मिलेंगे। वर्ष के अन्त में किसी मित्र के सहयोग  से कारोबार का प्रस्ताव मिल सकता है। आय में वृद्धि होगी। परन्तु पारिवारिक कठिनाइयां बढ़ सकती हैं। रहन-सहन कष्टमय रहेगा।

उपाय-

1-सवा पांच रत्ती का पुखराज सोने की अंगूठी में जड़वाकर दाहिने हाथ की तर्जनी उंगली में धारण करें।

2-प्रतिदिनि प्रातः स्नान करके ‘आदित्य हृदय स्तोत्रका पाठ करके ताम्बे के लौटे में जल भरकर उसमें थोड़े से चावल, चीनी या गुड तथा रोली डालकर जल की धार बनाकर सूर्य की तरफ मुंह करके अर्पित कर दें। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)