DA Image
27 सितम्बर, 2020|9:31|IST

अगली स्टोरी

कन्या

26 सित॰ 2020

क्षणे रुष्टा-क्षणे तुष्टा की मनःस्थिति रहेगी। पारिवारिक जीवन सुखमय रहेगा। वस्त्र उपहार में प्राप्त हो सकते हैं। माता-पिता को स्वास्थ्‍य विकार हो सकते हैं। नौकरी में अफसरों में वैचारिक मतभेद बढ़ सकते हैं। स्वास्थ्‍य का ध्यान रखें। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)

कन्या

27 सित॰ 2020

मानसिक शान्ति रहेगी। अपनी भावनाओं को वश में रखें। नौकरी में कार्यक्षेत्र में बदलाव के योग बन रहे हैं। कार्यों के प्रति दिलचस्पी बढ़ेगी। लेकिन तदानुसार परिणाम नहीं मिलेंगे। कुटुम्ब की किसी महिला से धन प्राप्ति हो सकती है। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)

कन्या

28 सित॰ 2020

क्षणे रुष्टा-क्षणे तुष्टा के मनोभाव रहेंगे। वाणी प्रभावशाली रहेगी। कुटुम्ब-परिवार की किसी महिला से धन की प्राप्ति हो सकती है। कारोबार का विस्तार होगा। लाभ के अवसर मिलेंगे। स्वास्थ्‍य के प्रति सचेत रहें। पिता को स्वास्थ्‍य विकार भी हो सकते हैं। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)

कन्या

week39-2020

कन्या (23 अगस्त-22 सितंबर)
कारोबार के विस्तार की योजना साकार होगी, भाइयों का सहयोग मिलेगा लेकिन परिश्रम की अधिकता रहेगी। घर-परिवार में मांगलिक कार्य होंगे, अनियोजित खर्चें बढ़ेंगे। वस्त्रादि उपहार भी मिल सकते हैं। नौकरी में परिवर्तन के साथ दूसरे स्थान पर भी जाना पड़ सकता है। आयात-निर्यात कारोबार में लाभ के अवसर प्राप्त होंगे। माता का सानिंध्य मिलेगा, वाहन सुख में वृद्धि हो सकती है। नौकीर में अफसरों का सहयोग मिलेगा।  (पं. राघवेंद्र शर्मा)

कन्या

1 सित॰ 2020

तीन सितंबर के उपरांत मन को शांति मिलेगी। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। पिता के स्वास्थ्य में सुधार होगा। नौकरी में अफसरों से सहयोग मिलेगा। 16 सितंबर से धैर्यशीलता बनाए रखने का प्रयास करें। खर्चों में कमी आएगी, परंतु जीवनसाथी से नोकझोंक हो सकती है। वस्त्रों पर खर्च बढ़ेंगे। वाहन सुख में कमी आ सकती है। परिश्रम अधिक रहेगा। (पंडित राघवेंद्र शर्मा)

कन्या

1 जन॰ 2020

कन्या- (23 अगस्त-23 सितम्बर)

वर्ष के प्रारम्भ के कारोबार में परिश्रम तो अधिक रहेगा, परन्तु यथानुरूप परिश्रम की फल प्राप्ति संदिग्ध रहेगी। 25 जनवरी से मानसिक शान्ति तो रहेगी, परन्तु जीवनसाथी को स्वास्थ्‍य विकार हो सकते हैं। नौकरी करने वालों को वर्तमान नौकरी में परिवर्तन के लिए तैयार रहना होगा। परिवार से दूर भी जाना हो सकता है। 05 मई के बाद कार्यक्षेत्र में कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। स्वास्थ्‍य सम्बन्धी समस्याओं से भी दो-चार होना पड़ सकता है। 30 मार्च के उपरान्त शैक्षिक एवं शोधादि कार्यों में सफलता मिलेगी। धर्म के प्रति श्रद्धाभाव बढ़ेगा। 24 अक्टूबर के बाद नौकरी में तरक्की के अवसर मिल सकते हैं। वाहन सुख की प्राप्ति होगी। जीवनसाथी के स्वास्थ्‍य में सुधार होगा। आय की स्थिति में सुधार होगा। बौद्धिक कार्यों से धनार्जन के साधन बन सकते हैं।

उपाय-

1:प्रत्येक बुधवार के दिन गणेश जी के चरणों में दुर्वा घास के ग्यारह कपोल पानी से धोकर चढ़ाया करें।

2:प्रत्येक रविवार को यथाशक्ति गेहूं का दान किया करें या गाय को खिलाया करें।

3: मंगलवार के दिन शाम को हनुमान जी के चरणों में लाल कपड़े में बांधकर गुड़ चढ़ाया करें। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)