DA Image
27 सितम्बर, 2020|8:47|IST

अगली स्टोरी

मकर

26 सित॰ 2020

आत्मविश्वास से लबरेज रहेंगे। पठन-पाठन में रुचि रहेगी। वाणी में मधुरता रहेगी। पारिवारिक जीवन सुखमय रहेगा। जीवनसाथी को स्वास्थ्‍य विकार रहेंगे। खर्चों की अधिकता रहेगी। रहन-सहन में असहज रहेंगे। भाई-बहनों का सहयोग मिलेगा। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)

मकर

27 सित॰ 2020

क्षणे रुष्टा-क्षणे तुष्टा के मनोभाव रहेंगे। परिवार में सुख-शान्ति रहेगी। वस्त्रों आदि के प्रति रुझान हो सकता है। मन अशान्त रहेगा। स्वास्थ्‍य में चिड़चिड़ापन रहेगा। जीवनसाथी को स्वास्थ्‍य विकार हो सकते हैं। पिता का सहयोग मिलेगा। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)

मकर

28 सित॰ 2020

मन में शान्ति एवं प्रसन्नता रहेगी। भवन सुख की प्राप्ति होगी। भवन के साज-सज्जा के कार्यों पर खर्च बढ़ सकते हैं। स्वभाव में चिड़चिड़ापन रहेगा। आत्मविश्वास में कमी रहेगी। किसी धार्मिक स्थान की यात्रा का कार्यक्रम बन सकता है। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)
 

मकर

week39-2020

मकर : (22 दिसंबर-19 जनवरी)
आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे, अध्ययन में रूचि रहेगी। संपत्ति के रखरखाव पर खचें बढ़ सकते हैं। जीवनसाथी का स्वास्थ्य विकार हो सकता है, चिकित्सा कार्यों में खर्च बढ़ सकते हैं। नौकरी में परिवर्तन की संभावना बन रही है, किसी दूसरे स्थान पर जाना पड़ सकता है।  भाइयों के सहयोग से परंतु परिश्रम की अधिकता रहेगी। संतान के स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं, रहन-सहन असुविधापूर्ण रहेगा।  (पं. राघवेंद्र शर्मा)

मकर

1 सित॰ 2020

आत्मविश्वास भरपूर रहेगा। परंतु मन में नकारात्मकता का प्रभाव हो सकता है। आलस्य भी अधिक रहेगा। पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। वाहन सुख में कमी आ सकती है। तीन सितंबर से कारोबार की स्थिति में सुधार होगा। किसी मित्र का सहयोग भी मिल सकता है। 24 सितंबर के उपरांत शैक्षिक कार्यों में व्यवधान आ सकते हैं। सेहत का ध्यान रखें। (पंडित राघवेंद्र शर्मा)

मकर

1 जन॰ 2020

मकर- ( 22 दिसम्बर-19 जनवरी)

शनि की साढ़े साती आपकी राशि पर चल रही है। इस वर्ष भी साढ़े साती का प्रभाव रहेगा। 25 जनवरी को शनि मकर राशि में प्रवेश करेंगे। मानसिक कठिनाइयों में कमी आएगी, परन्तु नौकरी में परिवर्तन हो सकता है। कार्यक्षेत्र में भी परिवर्तन सम्भव है। पारिवारिक समस्याएं परेशान कर सकती हैं। आठ फरवरी के बाद स्वास्थ्‍य के प्रति सचेत रहें। कार्यक्षेत्र में परिश्रम अधिक रहेगा। 30 मार्च के बाद पारिवारिक समस्याओं से निजात मिल सकती है। शैक्षिक कार्यों में सुधार आयेगा। एक जुलाई के बाद भौतिक सुखों में वृद्धि होगी। घर-परिवार में धार्मिक कार्य होंगे। कार्यक्षेत्र में विपरीत परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है। कारोबार में कठिनाइयों का सामना भी करना पड़ सकता है। 21 नवम्बर के बाद परिस्थितियों में सुधार आएगा। वर्ष के अन्त में भवन या सम्पत्ति का लाभ हो सकता है। 

उपाय-

1-प्रतिदिन एक माला ‘ऊं प्रां प्रीं प्रौं सः शनये नमः’ मंत्र का जाप करें।

2-शनिवार के दिन शाम के समय पीपल के पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक जलाएं।

3-बृहस्पतिवार के दिन बेसन का मीठा परांठा गाय को खिलाएं (पं.राघवेन्द्र शर्मा)