DA Image
हिंदी न्यूज़ › पश्चिम बंगाल › दोस्तों ने कहा राजनीति छोड़ने का फैसला गलत, TMC ज्वाइन करने पर बोले बाबुल सुप्रियो- फैसला बदलने पर गर्व है
पश्चिम बंगाल

दोस्तों ने कहा राजनीति छोड़ने का फैसला गलत, TMC ज्वाइन करने पर बोले बाबुल सुप्रियो- फैसला बदलने पर गर्व है

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Nishant Nandan
Sat, 18 Sep 2021 06:05 PM
दोस्तों ने कहा राजनीति छोड़ने का फैसला गलत, TMC ज्वाइन करने पर बोले बाबुल सुप्रियो- फैसला बदलने पर गर्व है

 पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने टीएमसी में शामिल होने के बाद कहा है कि वो काफी उत्साहित हैं। उन्होंने कहा, 'दीदी और अभिषेक ने मुझे बड़ा मौका दिया है। अब जब मैंने टीएमसी ज्वाइन कर लिया है तो आसनसोल सीट पर बने रहने का कोई मतलब नहीं है। मैं राजनीति में आसनसोल के लिए आया हूं। मैं जहां तक संभव हो सका आसनसोल के लिए लगातार काम करता रहूंगा।'

बाबुल सुप्रियो ने कहा कि, 'मुझे गर्व है कि मैं अपना फैसला बदल रहा हूं। मैं वापस लौट रहा हूं ताकि बंगाल की सेवा कर सकूं। मैं काफी उत्साहित हूं। मैं सोमवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात करूंगा। मैं इस शानदार स्वागत से खुश हूं।'टीएमसी नेता बाबुल सुप्रियो ने आगे यह भी कहा कि जब मैंने राजनीति छोड़ने की बात कही थी तब इसका मतलब मेरे दिल से था। हालांकि, मुझे मसहूस हुआ कि वहां एक बड़ा मौका है जिससे मैं प्रभावित हुआ। मेरे सभी दोस्तों ने कहा कि राजनीति छोड़ने का मेरा फैसला गलत है।

इससे पहले पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो शनिवार को कोलकाता में तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) में शामिल हो गए। उन्होंने हाल में राजनीति छोड़ने की घोषणा की थी। पार्टी ने एक ट्वीट में कहा, ''आज राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी और राज्यसभा सांसद डेरेक ओ ब्रायन की मौजूदगी में पूर्व केंद्रीय मंत्री व मौजूदा सांसद बाबुल सुप्रियो तृणमूल परिवार में शामिल हो गए।''
    
पिछले महीने सुप्रियो ने घोषणा की थी कि वह राजनीति छोड़ रहे हैं, लेकिन बाद में उन्हें लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा नहीं देने के लिए मना लिया गया था। सुप्रियो ने जोर देकर कहा था कि वह अब सक्रिय राजनीति का हिस्सा नहीं रहेंगे। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात के बाद पत्रकारों से बात करते हुए आसनसोल के सांसद सुप्रियो ने कहा था कि वह एक सांसद के रूप में अपनी संवैधानिक जिम्मेदारियों का निर्वहन करना जारी रखेंगे, लेकिन राजनीति से दूर रहेंगे। साथ ही वह राष्ट्रीय राजधानी में अपना आधिकारिक आवास खाली कर देंगे।

संबंधित खबरें