DA Image
हिंदी न्यूज़ › पश्चिम बंगाल › राज्यसभा से इस्तीफे के बाद अर्पिता घोष बनीं TMC की बंगाल इकाई की महासचिव
पश्चिम बंगाल

राज्यसभा से इस्तीफे के बाद अर्पिता घोष बनीं TMC की बंगाल इकाई की महासचिव

लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीPublished By: Nishant Nandan
Fri, 17 Sep 2021 05:27 PM
राज्यसभा से इस्तीफे के बाद अर्पिता घोष बनीं TMC की बंगाल इकाई की महासचिव

तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने शुक्रवार को पूर्व सांसद अर्पिता घोष को पार्टी की प्रदेश इकाई का महासचिव नियुक्त किया। इससे दो दिन पहले ही राज्यसभा के सभापति ने उच्च सदन से उनका इस्तीफा स्वीकार किया था। टीएमसी की राज्य इकाई के अध्यक्ष सुब्रत बख्शी ने घोष को लिखे पत्र में यह घोषणा की। उन्होंने बृहस्पतिवार को जोर देकर कहा था कि राज्यसभा सदस्य के रूप में इस्तीफा देने का फैसला पार्टी के शीर्ष नेतृत्व के साथ विचार-विमर्श करने के बाद लिया गया था, और यह उन पर थोपा नहीं गया था।
        
रंगमंच से जुड़ी रहीं घोष पूर्व में लोकसभा सदस्य भी रह चुकी हैं। उन्होंने कहा कि उच्च सदन का सदस्य होने और निचले सदन का सदस्य होने में अंतर है। घोष ने कहा था, 'जब मैं राज्यसभा के लिए निर्वाचित हुई तब कोविड-19 महामारी शुरू हो गई और एक सांसद के तौर पर मुझे ज्यादा कुछ करने का अवसर नहीं मिला। मुझे लगता है कि मैं अब संगठनात्मक मामलों पर ज्यादा ध्यान केंद्रित करूंगी, और अपने जुनून - रंगमंच के लिए और अधिक समय समर्पित करूंगी - अगर मैं यहां (पश्चिम बंगाल) रहती हूं।'
        
उच्च सदन के सभापति और उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने बुधवार को उनका इस्तीफा स्वीकार किया था। बालुरघाट संसदीय सीट से 2019 में हुए लोकसभा चुनाव के दौरान हार का सामना करने वाली घोष को मार्च 2020 में राज्यसभा के लिये चुना गया था। अर्पिता घोष हाल में संपन्न मॉनसून सत्र के दौरान राज्यसभा में हुए हंगामे के कारण निलंबित सदस्यों में शामिल थीं। इस हंगामे के दौरान सांसद और मार्शल कथित तौर पर घायल हुए थे।

बता दें कि बंगाल की भवानीपुर सीट पर 30 सितंबर को चुनाव होना है। इस सीट पर भाजपा की प्रियंका टिबरेवाल का मुकाबला राज्य की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी से होगा। दोनों भवानीपुर सीट के लिए नामांकन दाखिल कर चुकी हैं। ममता बनर्जी ने कोलकाता में ही नामांकन दाखिल किया था। इसी साल हुए विधानसभा चुनाव में ममता नंदीग्राम सीट से चुनाव लड़ी थीं, लेकिन उन्हें भाजपा के सुवेंदु अधिकारी ने हरा दिया था। बंगाल का सीएम बने रहने के लिए ममता को भवानीपुर से चुनाव जीतना जरूरी है।

संबंधित खबरें