DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   पश्चिम बंगाल  ›  नारदा केस में बंगाल के दो मंत्रियों समेत 4 तृणमूल नेता गिरफ्तार, सीबीआई के दफ्तर पहुंचीं ममता बनर्जी

पश्चिम बंगालनारदा केस में बंगाल के दो मंत्रियों समेत 4 तृणमूल नेता गिरफ्तार, सीबीआई के दफ्तर पहुंचीं ममता बनर्जी

हिन्दुस्तान ,कोलकाताPublished By: Surya Prakash
Mon, 17 May 2021 12:20 PM
नारदा केस में बंगाल के दो मंत्रियों समेत 4 तृणमूल नेता गिरफ्तार, सीबीआई के दफ्तर पहुंचीं ममता बनर्जी

नारदा स्टिंग मामले की जांच कर रही सीबीआई ने पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार के 2 मंत्रियों समेत चार नेताओं को कोलकाता में गिरफ्तार कर लिया गया है। एजेंसी ने सोमवार को मंत्री फिरहाद हाकिम और सुब्रत मुखर्जी के अलावा टीएमसी के ही विधायक मदन मित्रा और कोलकाता के पूर्व मेयर शोभन चटर्जी को भी गिरफ्तार किया है। नेताओं की गिरफ्तारी की सूचना मिलते ही मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी सीबीआई के दफ्तर पहुंच गईं और कहा कि मुझे भी गिरफ्तार कीजिए।

सोमवार को एजेंसी की टीम इन अधिकारियों के घर पर पहुंची और उन्हें पूछताछ के लिए कोलकाता के निजाम पैलेस स्थित अपने दफ्तर लेकर आई थी, जहां इन चारों को गिरफ्तार कर लिया गया।

टीएमसी की ओर से सीबीआई की इस कार्रवाई को बदले के तहत उठाया गया कदम करार दिया है। ममता बनर्जी के अलावा टीएमसी के सांसद कल्याण बनर्जी और सांतनु सेन भी सीबीआई के दफ्तर पहुंचे हैं। यही नहीं सीबीआई की ओर से गिरफ्तार किए गए सुवन चटर्जी की पत्नी रत्ना भी एजेंसी के ऑफिस पहुंची हैं।

एजेंसी के सूत्रों ने बताया कि पूछताछ के बाद इन नेताओं को गिरफ्तार कर लिया गया है और आज दिन में उन्हें अदालत में पेश किया जाएगा। राज्य के गवर्नर जगदीप धनखड़ की ओर से इन नेताओं के खिलाफ केस चलाने की मंजूरी सीबीआई को दिए जाने के बाद यह एक्शन लिया गया है। एक दौर में टीएमसी से जुड़े रहे सुवन चटर्जी ने 2019 में बीजेपी जॉइन की थी, लेकिन भगवा दल की ओर से विधानसभा चुनाव में टिकट से इनकार के बाद उन्होंने पार्टी छोड़ दी थी। वहीं मदन मित्रा ने हाल ही में हुए चुनावों में कमरहाटी विधानसभा सीट से जीत हासिल की थी। 

सीबीआई की कार्रवाई को लेकर राजनीति भी तेज हो गई है। टीएमसी के प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा कि हम इसकी निंदा करते हैं और यह बदला लेने जैसी सोच है। वहीं बीजेपी का कहना है कि इन गिरफ्तारियों में उसका कोई रोल नहीं है। पार्टी के प्रवक्ता समिक भट्टाचार्जी ने कहा, 'हमें कुछ नहीं कहना है। बीजेपी का इससे कुछ भी लेना-देना नहीं है।' मंत्रियों की गिरफ्तारी ने एक बार फिर से 2016 से पहले उभरे नारदा स्कैम के मामले को सामने ला दिया है। दरअसल नारदा स्टिंग ऑपरेशन में टीएमसी के कई सीनियर नेता एक फर्जी कंपनी की मदद के बदले में कैश लेते दिखे थे।

संबंधित खबरें