DA Image
7 मई, 2021|1:25|IST

अगली स्टोरी

बंगाल बंद की ममता ने निकाली काट, सरकारी दफ्तरों में उपस्थिति अनिवार्य की

mamata banerjee

पश्चिम बंगाल में वाम मोर्चा की पार्टियों ने राज्य में 12 घंटे के राज्यव्यापी बंद का आह्वान किया है। लेफ्ट ने आरोप ने लगाया है कि बंगाल पुलिस ने कोलकाता प्रदर्शन के दौरान उनके कार्यकर्ताओं पीटा। शुक्रवार को सुबह आई तस्वीरों में राज्य में दुकानें बंद दिखाई दी। बंगाल बंद की इस घोषणा के बाद ममता बनर्जी-प्रशासन ने सरकारी दफ्तरों की सभी छुट्टियों को रद्द कर दिया और बंद को नाकाम करने के लिए सरकारी कार्यालयों में सभी की उपस्थिति अनिवार्य कर दी।

गुरुवार को कोलकाता में पुलिस के साथ हुई झड़प के बाद दर्जनों कांग्रेस और वामपंथी कार्यकर्ता घायल हो गए। कार्यकर्ता नौकरियों सहित कई मांगों को लेकर नबाना में राज्य सचिवालय की ओर मार्च कर रहे थे।

जब पुलिस ने उन्हें मध्य कोलकाता में उन्हें रोका तो कार्यकर्ताओं ने बैरिकेड तोड़ने की कोशिश की और दोनों के बीच झड़प हुई। पुलिस को कार्यकर्ताओं को तितर-बितर करने के लिए वाटर कैनन, फायर आंसू गैस के गोले का इस्तेमाल करना पड़ा और लाठीचार्ज का सहारा लेना पड़ा। कार्यकर्ताओं ने पुलिस पर पत्थर और लाठियों से हमला किया।

वाम मोर्चा के अध्यक्ष बिमान बोस की ओर से जारी बयान में कहा गया है, "जिस तरह से पुलिस ने नाबाना के मार्च में भाग लेने वालों पर अत्याचार किए, उसने ऐतिहासिक जलियांवाला बाग की घटना की हद तक परेशान कर दिया।"

आंदोलनकारियों पर हमले की निंदा करते हुए, कांग्रेस के राज्यसभा सांसद प्रदीप भट्टाचार्य ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस सरकार ने लोगों का विश्वास खो दिया है और विरोध प्रदर्शनों के हिंसक दमन का एक संकेत है।

वाम मोर्चा के नेताओं ने कहा कि वाम मोर्चा के दलों और कांग्रेस पार्टी के साथ चर्चा के बाद बंगाल बंद का आह्वान किया गया।

राज्य के वित्त विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “यह निर्देश दिया गया है कि सभी राज्य सरकारी कार्यालय शुक्रवार को खुले रहेंगे। कर्मचारियों को कोई छुट्टी नहीं दी जाएगी। अगर कोई कर्मचारी छुट्टी लेता है तो इसे 'डी-नॉन' माना जाएगा और कोई वेतन उस दिन के लिए स्वीकार्य नहीं होगा "

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Mamta cut out Bengal bandh mandatory left wing congress presence in government offices