DA Image
5 अप्रैल, 2021|7:18|IST

अगली स्टोरी

पश्चिम बंगाल में टीकाकरण से पहले खड़ा हुआ विवाद, स्वास्थ्य कर्मियों की लिस्ट में था TMC विधायक का नाम

controversy triggered as tmc mla name crops up in list of health workers who were to receive covid 1

पश्चिम बंगाल में भी टीकाकरण अभियान का आगाज हो चुका है। यहां इसके साथ ही विवाद भी शुरू हो गया है। सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के एक विधायक का नाम स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं (जिन्हें शनिवार को कोविद -19 टीका प्राप्त करना था) की सूची में शामिल होने के कारण विवाद खड़ा हो गया है। भारतीय जनता पार्टी द्वारा सवाल उठाए जाने के बाद टीएमसी विधायक सौरव चक्रवर्ती का नाम बाद में लिस्ट से हटा दिया गया। टीएमसी ने इस महज एक त्रुटि करार दिया गया, जिसे बाद में ठीक कर लिया गया है।

उत्तर बंगाल के अलीपुरद्वार के एक टीएमसी विधायक चक्रवर्ती के पास पीएचडी की डिग्री है। स्वास्थ्य देखभाल कार्यकर्ताओं की सूची में उनका नाम सबसे पहले था जो अलीपुरद्वार जिला अस्पताल में टीका प्राप्त करने वाले थे।

उन्होंने कहा, ''जिला स्वास्थ्य विभाग की ओर से मेरे पास पीएचडी की डिग्री है और जिला अस्पताल में रोजी कल्याण समिति (रोगी कल्याण समिति) के अध्यक्ष भी हैं। जिस क्षण मुझे पता चला कि मेरा नाम स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की सूची में है, मैंने स्वास्थ्य विभाग के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (CMOH) से संपर्क किया और टीका लेने से इनकार कर दिया। मैं अलीपुरद्वार जिला अस्पताल में टीकाकरण कार्यक्रम की देखरेख कर रहा हूं।” 

भाजपा के अलीपुरद्वार जिला समिति के अध्यक्ष गंगा प्रसाद शर्मा ने कहा, “विधायक ने पहले वैक्सीन प्राप्त करके लोगों को गुमराह करने की कोशिश की होगी। वह डॉक्टरेट की डिग्री रखते हैं, लेकिन डॉक्टर नहीं हैं। सत्तारूढ़ टीएमसी और चक्रवर्ती का आम लोगों ने मजाक उड़ाया है।'' आपको बता दें कि अलीपुरद्वार के स्वास्थ्य के लिए मुख्य चिकित्सा अधिकारी गिरीश चंद्र बेरा से संपर्क नहीं किया जा सका।

नाम नहीं छापने की शर्त पर अस्पताल के एक डॉक्टर ने कहा, "विधायक का नाम सूची में कल्याण कल्याण समिति के अध्यक्ष के रूप में पाया गया और उन्होंने डॉ. चक्रवर्ती के रूप में अपना नाम भी लिखा। स्वास्थ्य विभाग को क्रॉस-चेक करना चाहिए था।”

टीएमसी नेतृत्व ने इस घटना को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि यह एक त्रुटि थी जिसे ठीक कर लिया गया। टीएमसी के प्रवक्ता और ममता सरकार में मंत्री तपत रॉय ने कहा, "गलती करना मानव का स्वभाव है। जैसे कि भाजपा के नेता कोई गलती नहीं करते हैं और हमेशा सही होते हैं। मामला खत्म हो गया है क्योंकि चक्रवर्ती ने खुद अपना नाम हटा दिया है। टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी ने सख्त निर्देश दिया है कि केवल स्वास्थ्य कर्मियों को ही टीका लगवाना चाहिए।''

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Controversy triggered as TMC MLA name crops up in list of health workers who were to receive Covid 19 vaccine