ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ पश्चिम बंगालबेटी के लग्जरी घरों से मिला पैसों का 'पहाड़', अर्पिता मुखर्जी की मां 50 साल पुराने जर्जर मकान में करती गुजारा

बेटी के लग्जरी घरों से मिला पैसों का 'पहाड़', अर्पिता मुखर्जी की मां 50 साल पुराने जर्जर मकान में करती गुजारा

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने भले ही अर्पिता मुखर्जी के लक्जरी घरों पर छापा मारा, लेकिन उत्तर 24 परगना में उनका पुश्तैनी घर सुर्खियों से बाहर रहा। यहां अर्पिता की मां मिनाती मुखर्जी रहती हैं।

बेटी के लग्जरी घरों से मिला पैसों का 'पहाड़', अर्पिता मुखर्जी की मां 50 साल पुराने जर्जर मकान में करती गुजारा
Himanshu Jhaलाइव हिन्दुस्तान,कोलकाता।Sat, 30 Jul 2022 12:09 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने भले ही अर्पिता मुखर्जी के लक्जरी घरों पर छापा मारा, लेकिन उत्तर 24 परगना में उनका पुश्तैनी घर सुर्खियों से बाहर रहा। यहां अर्पिता की मां मिनाती मुखर्जी रहती हैं। कोलकाता के बेलघोरिया में अपने पैतृक घर में अपनी बेटी की यात्रा को याद करते हुए उन्होंने कहा, "अर्पिता पिछले हफ्ते यहां आई थी। वह यहां कभी भी ज्यादा समय नहीं बिताती है। वह ज्यादातर अपने घर पर रहती है।"

इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 50 साल पहले बने इस जर्जर मकान में मिनाती मुखर्जी अकेली रहती हैं। भर्ती घोटाले में ईडी द्वारा गिरफ्तार की गई अर्पिता मुखर्जी अपनी बीमार मां से मिलने जाती थी और उनके साथ 2-3 घंटे बिताती थी। घर के आसपास के लोगों का कहना है कि अर्पिता ने अपनी मां की दैनिक कामों में सहायता के लिए दो सहायकों की व्यवस्था की थी।

इंडिया टुडे से बात करते हुए मिनाती मुखर्जी ने कहा, "अगर उसने मेरे निर्देशों का पालन किया होता तो मैं उसकी शादी कर देती। उसके पिता सरकारी सेवा में थे, इसलिए उसे वह नौकरी मिल सकती थी। लेकिन उसकी कोई दिलचस्पी नहीं थी। उसने यह घर बहुत पहले छोड़ दिया था।" उन्होंने कहा कि अर्पिता फिल्मों और टेलीविजन शो में काम करना चाहती थी।

ईडी जांच पर प्रतिक्रिया देते हुए अर्पिता की मां ने कहा, "मैंने इसके बारे में समाचारों में सुना। मुझे पैसे के बारे में कुछ नहीं पता। ये कानूनी मुद्दे हैं। मैं उनसे इसके बारे में पूछने की कोशिश करूंगी।"

आपको बता दें कि कभी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के करीबी रहे पार्थ चटर्जी को मंत्री पद से बर्खास्त कर दिया गया और तृणमूल कांग्रेस के सभी पदों से हटा दिया गया है। ईडी ने बंगाल स्कूल भर्ती घोटाले में उनकी संलिप्तता के आरोप में गिरफ्तार किया है।

इस बीच बीजेपी नेता अमित मालवीय ने टीएमसी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि बढ़ते सबूतों के बीच ममता बनर्जी के पास पार्थ चटर्जी को बर्खास्त करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। उन्होंने कहा, "ममता ने कोई एहसान नहीं किया है, क्योंकि एसएससी घोटाले में कई अनियमितताओं की सूचना मिली है और अपराध की आय का खुलासा हुआ है।" 

epaper