Tuesday, January 18, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ पश्चिम बंगाल7 करोड़ का लिया दहेज, फिर भी खत्म नहीं हुआ लालच, तंग आकर बहू ने कूदकर दी जान

7 करोड़ का लिया दहेज, फिर भी खत्म नहीं हुआ लालच, तंग आकर बहू ने कूदकर दी जान

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीAshutosh Ray
Fri, 05 Mar 2021 11:51 AM
7 करोड़ का लिया दहेज, फिर भी खत्म नहीं हुआ लालच, तंग आकर बहू ने कूदकर दी जान

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में दहेज उत्पीड़न का एक झकझोर देने वाला मामला सामने आया है। जहां, पॉश इलाके में रहने वाली 25 साल की राशिका अग्रवाल ने ससुराल वाले के प्रताड़ना से तंग आकर अपनी जान दे दी। महिला की आत्महत्या के बाद अब परिवार वालों ने ससुरल पक्ष प्रताड़ना का आरोप लगया है और कहा कि शादी में लड़के वालों ने बाकी खर्चों को छोड़कर दहेज के रूप में 7 करोड़ रुपए लिए थे। 

राशिका की मौत के बाद परिवार अब न्याय की मांग कर रहा है और पति और परिवार के खिलाफ सजा की मांग कर रहा है। पुलिस में दर्ज शिकायत के अनुसार ससुराल वालों ने जैन परिवार से 7 करोड़ रुपए का दहेज लिया था, इसके अलावा शादी के बाद अन्य खर्चे के लिए अलग से पैसा लिया था। 

इंडिया टुडे के रिपोर्ट के मुताबिक राशिका की शादी 26 साल के बिजनेमैन कुशल अग्रवाल से हुई थी। कुशल अग्रवाल बिजनेसमैन नरेश अग्रवाल के बेटे हैं। राशिका के परिवार वालों ने आरोल लगाया है कि कुशल ड्रग्स, शराब के नशे में प्रताड़ित करता था। परिवार ने कहा कि शादि से पहले उन्हें कुशल के आदतों के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। 

पुलिस ने कहा कि कुशल की ओर से मांग किए जाने के बाद राशिका अक्सर अपने परिवार से पैसे भेजने के लिए कहती थी। ऐसा नहीं होने पर कुशल राशिका को प्रताड़ित करता था। नवंबर में जब राशिका के पिता की तबीयत खराब हुई और वो अस्पताल में भर्ती हुए थे, तब से राशिका ने सुसराल वाले के बारे में अपने माता-पिता से बताना बंद कर दिया।

5 जनवरी को घर वापस आ गई
हालांकि, 5 जनवरी, 2021 को, पीड़िता अपने माता-पिता के घर वापस आ गई और अपने ससुराल वापस नहीं जाना चाहती थी। उसके ससुर नरेश अग्रवाल ने राशिका के पिता महेंद्र जैन से निवेदन किया कि वे दंपति को आनें दे, जिसके बाद वह 13 फरवरी को अपने वैवाहिक घर वापस आ गई। राशिका के पिता ने आरोप लगाया है कि बेटी के ससुराल पहुंचने की तीन दिन बाद राशिका ने जान दे दी। राशिका के पिता का आरोप है कि आत्महत्या से पहले बेटी ने उनके लिए एक व्हाट्सएप मैसेज छोड़ा था। जिसमें लिखा है कि मैंने यहां रहने की बहुत कोशिश की, लेकिन इनके द्वारा किए जा रहे अत्याचार को सहन नहीं कर सकती। इससे बेहतर है कि मैं चली जाऊं, पापा मुझे याद मत करना। यह मैसेज दोपहर दो बजे भेजा गया था। इसके कुछ देर बाद ही राशिका की मां संगीत को ससुराल से एक कॉल आई और बताया गया कि उनकी बेटी तीसरे माले से कूद गई है और उसे अस्पताल ले जाया जा रहा है। और रात में 9.30 बजे राशिका की मौत हो गई।


 

epaper
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें