By Arti Mishra
PUBLISHED July 10, 2024

LIVE HINDUSTAN
Faith

Pradosh Vrat: 18 या 19 जुलाई, कब है प्रदोष व्रत? 

हिंदू धर्म में त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत किया जाता है। एक माह में दो प्रदोष व्रत आते हैं।

 प्रदोष व्रत

अगला पद्रोष व्रत आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि को रखा जाएगा।

त्रयोदशी ति​थि

इस बार प्रदोष व्रत की तिथि को लेकर संशय बना हुआ है। आप भी जानें किस दिन रखा जाएगा व्रत।

तिथि का संशय

पंचांग के अनुसार, आषाढ़ माह के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि 18 जुलाई रात 8:44 बजे शुरू होगी, जो 19 जुलाई शाम 7:41 बजे तक रहेगी

पंचांग

प्रदोष व्रत में इस बात का महत्व होता है कि प्रदोषकाल की पूजा के समय कौन सी तिथि व्याप्त है। 

प्रदोष व्रत

प्रदोष काल के पूजा मुहूर्त के आधार पर गुरु प्रदोष व्रत 18 जुलाई को रखा जाएगा।

कब रखा जाएगा व्रत

गुरुवार को होने के कारण यह व्रत गुरु प्रदोष व्रत कहलाएगा।

गुरु प्रदोष

प्रदोष व्रत रखने व भगवान शिव की उपासना करने से आरोग्यता, ऐश्वर्य, धन, समृद्धि का आशीर्वाद प्राप्त होता है।

महत्व

प्रदोष व्रत में भोलेनाथ की पूजा का शुभ मुहूर्त 18 जुलाई को रात 8:44 बजे से रात 9:23 बजे तक का होगा

पूजन मुहूर्त

यह जानकारी सिर्फ मान्यताओं, धार्मिक ग्रंथों और विभिन्न माध्यमों पर आधारित है। किसी भी जानकारी को मानने से पहले विशेषज्ञ की सलाह लें। 

नोट

सावन का पहला सोमवार कब? Sawan Somwar List

Click Here