फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मौसमनौतपा के बीतने के साथ सूरज की तपिश भी बढ़ी, लू के थपड़ों से हलकान; यह है मौसम का पूर्वानुमान

नौतपा के बीतने के साथ सूरज की तपिश भी बढ़ी, लू के थपड़ों से हलकान; यह है मौसम का पूर्वानुमान

धर्मनगरी में सोमवार को अधिकतम तापमान 43.6 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 25.10 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। दिन के विपरीत रात को भी गर्मी बढ़ गई है। गर्मी में रात के समय लोग बेहाल हो गए।

नौतपा के बीतने के साथ सूरज की तपिश भी बढ़ी, लू के थपड़ों से हलकान; यह है मौसम का पूर्वानुमान
Himanshu Kumar Lallदेहरादून, हिन्दुस्तान टीमSat, 01 Jun 2024 02:32 PM
ऐप पर पढ़ें

जैसे जैसे नौतपा बीत रहा है, वैसे-वैसे सूरज की तपिश भी बढ़ती जा रही है। रुद्रपुर, हरिद्वार, रुड़की, विकासनगर आदि शहरों में गर्मी से लोग बेहाल हो रहे हैं। देहरादून में मई के महीने में शुक्रवार को गर्मी का ऑलटाइम रिकॉर्ड टूट गया, लेकिन बिजली सप्लाई का सिस्टम ढर्रे पर नहीं लौटा।

शहर के अनेक इलाकों में बिजली की आंखमिचौली से लोगों को गर्मी की तीव्रता झेलनी पड़ी। अत्यधिक लोड और लोकल फॉल्ट की वजह से बिजली की सप्लाई में बार-बार बाधा आई। माजरा और बिंदाल 132 केवी बिजलीघर से दोपहर 12 बजे से शाम साढ़े चार बजे तक कई बार कट लगे।

पानी की सप्लाई पर असर: बिजली की आंख मिचौली का असर पेयजल आपूर्ति पर भी पड़ा। जल संस्थान को ट्यूबवेल का रेस्टिंग शेड्यूल बदलना पड़ा। जल संस्थान के एसई शहरी क्षेत्र राजीव सैनी ने बताया कि शहर में कुछ स्थानों पर ट्यूबवेल की सप्लाई प्रभावित रही। कुछ जगहों पर जेनरेटर चलाकर ओवरहेड टैंक भरे गए।

बारह साल में टूटा ऑलटाइम रिकॉर्ड
देहरादून में मई के महीने में ऑलटाइम अधिकतम तापमान का रिकॉर्ड बारह साल के बाद शुक्रवार को टूटा। इससे पहले 30 मई 2012 में देहरादून का पारा 43.1 डिग्री सेल्सियस पर पहुंचा था, जो अब तक ऑलटाइम रिकॉर्ड था।

सहस्रधारा में 15 दिन से पेयजल का संकट
पर्यटक स्थल सहस्त्रत्त्धारा में पिछले 15 दिनों से व्यापारी पानी की किल्लत झेल रहे हैं। स्थानीय व्यापार संघ अध्यक्ष अनूप पयाल ने बताया कि लाइन चोक होने की वजह से क्षेत्र में पेयजल संकट हो रखा है। करीब दो सौ व्यापारी पानी का संकट झेल रहे हैं। पानी न आने की वजह से पर्यटक भी उनकी दुकानों से दूर हो रहे हैं। इससे व्यापार चौपट हो रखा है।

हरिद्वार में भीषण गर्मी में लू चलने से लोग हलकान
धर्मनगरी में शुक्रवार को अधिकतम तापमान 43.6 डिग्री दर्ज हुआ। जो साल का दूसरा सबसे अधिक गर्म दिन रहा। वहीं न्यूनतम तापमान 25.10 डिग्री दर्ज हुआ। तपती धूप और गर्म हवाओं में दिन के समय लोगों को आवाजाही करने में परेशानी उठानी पड़ी।

धर्मनगरी में धूप की तपिश लगातार बढ़ रही है। इस कारण सनबर्न, हीट स्ट्रोक, लाल दाने आदि के मरीजों की संख्या भी बढ़ रही है। धर्मनगरी में गर्मी से लोग बेहाल हैं। उमस भरी गर्मी में लोगों के पसीने निकल रहे हैं।

दिन में चल रही गर्म हवाओं से त्वचा को नुकसान पहुंच रहा है। दिन में लोग आवागमन करने से बच रहे हैं। दोपहर के समय सड़के सुनसान नजर आ रही है। सड़कों पर लोगों को भीषण गर्मी का एहसास हो रहा है। दिन में गर्मी से बचाव के लिए लोग पेयजल पदार्थों का सेवन कर रहे हैं।

धर्मनगरी में सोमवार को अधिकतम तापमान 43.6 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 25.10 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। दिन के विपरीत रात को भी गर्मी बढ़ गई है। गर्मी में रात के समय लोग पंखे, कूलर, एसी आदि उपकरणों का उपयोग कर रहे हैं।

दिन के समय भी बाजारों में लोग गन्ना, बेल, मौसमी, गाजर, संतरा आदि जूस और अन्य पेय पदार्थों का सेवन कर रहे हैं। साथ ही लोग छाता लेकर, मुंह पर कपड़ा ढक कर और सूती गर्मी के कपड़े, ग्लव्स आदि पहन कर आवागमन कर रहे हैं। दिन के समय चटक धूप लोगों को परेशान कर रही है।

विकासनगर में भी गर्मी ने किया बेहाल
जैसे जैसे नौतपा बीत रहा है, वैसे-वैसे सूरज की तपिश भी बढ़ती जा रही है। शुक्रवार को पारा 42 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच गया। सुबह दस बजे से ही लू चलने की की स्थिति बन गई। रात का पारा भी 24 डिग्री सेल्सियस के पार पहुंच गया है।

तहसील मुख्यालय में लगे मौसम विभाग के रडार के आंकड़े अनुसार शुक्रवार सुबह 11.30 बजे पारा 40 डिग्री के पार था। वहीं तेज धूप व लू के चलते दोपहर में सड़कें सूनीं हो गईं। इस दौरान बाजारों में भी सन्नाटा पसर गया। लू के थपेड़ों से बचने के लिए लोग मुंह बांधकर घरों से बाहर निकले। लोग तेज धूप से बचने के लिए सिर पर तौलिया, आंखों में चश्मा लगाए रहे, लेकिन यह उपाय भी नाकाफी साबित हो रहे थे।

झुलसा देने वाली गर्मी से लोगों के अलावा पशु-पक्षी भी बेहाल रहे। वहीं स्वास्थ्य विभाग ने लू चलने की वजह से लोगों से सावधानी बरतने की हिदायत दी है। उप जिला चिकित्सालय में तैनात डॉ. टीएस डुंगरियाल के मुताबिक गर्मी में पानी पसीने के रूप में तेजी से बाहर निकलता है।

इसे पूरा करने के लिए पानी लगातार पीते रहें। अगर बाहर निकल रहे हैं तो अपने साथ पानी की बोतल जरूर रखें। पानी की कमी से डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है। शरीर में पानी और भोजन की कमी को पूरा करने के लिए खीरा, तरबूज, खरबूजा और ककड़ी का उपयोग करें। जहां तक हो सके बच्चे और बुजुर्गों को घर में ही रखें।