फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मौसमकहीं खुशी तो कहीं गम लेकर आया IMD, जानें- मॉनसून पर क्या नई भविष्यवाणी; कहां राहत की बारिश

कहीं खुशी तो कहीं गम लेकर आया IMD, जानें- मॉनसून पर क्या नई भविष्यवाणी; कहां राहत की बारिश

Monsoon Latest Update by IMD: मौसम वैज्ञानिकों ने कहा कि रविवार को पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश से गुजरे चक्रवात रेमल ने मॉनसून के प्रवाह को बंगाल की खाड़ी की ओर खींच लिया है। इससे मॉनसून जल्द आ रहा है।

कहीं खुशी तो कहीं गम लेकर आया IMD, जानें- मॉनसून पर क्या नई भविष्यवाणी; कहां राहत की बारिश
Pramod Kumarलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 29 May 2024 11:02 PM
ऐप पर पढ़ें

Monsoon Latest Update by IMD:  भारत मौसम विभाग (IMD) ने कहा है कि केरल में अगले 24 घंटों के दौरान दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के आगमन के लिए परिस्थितियां अनुकूल बन रही हैं। IMD ने अपने ताजा बुलेटिन में कहा है कि दक्षिण पश्चिम मॉनसून पूर्वानुमान से एक दिन पहले बृहस्पतिवार को केरल तट और पूर्वोत्तर के कुछ हिस्सों में दस्तक दे सकता है। मौसम कार्यालय ने 15 मई को केरल में 31 मई तक मॉनसून के दस्तक देने का अनुमान जताया था। IMD की इस भविष्यवाणी और पूर्वानुमान से देशवासियों को राहत मिलने की उम्मीद है।

मौसम वैज्ञानिकों ने कहा कि रविवार को पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश से गुजरे चक्रवात रेमल ने मॉनसून के प्रवाह को बंगाल की खाड़ी की ओर खींच लिया है, जो पूर्वोत्तर में मॉनसून के जल्दी आने का एक कारण हो सकता है। मौसम विभाग के आंकड़ों के अनुसार केरल में पिछले कुछ दिन से भारी बारिश हो रही है, जिसके परिणामस्वरूप मई में सामान्य से अधिक बारिश हुई है। बता दें कि अरुणाचल प्रदेश, त्रिपुरा, नगालैंड, मेघालय, मिजोरम, मणिपुर और असम में मॉनसून के आगमन की सामान्य तिथि 5 जून है।

आईएमडी ने कहा, “इस अवधि के दौरान दक्षिण अरब सागर के कुछ और हिस्सों, मालदीव, कोमोरिन, लक्षद्वीप के शेष हिस्सों, दक्षिण-पश्चिम और मध्य बंगाल की खाड़ी, उत्तर-पूर्वी बंगाल की खाड़ी और पूर्वोत्तर राज्यों के कुछ हिस्सों में दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल होती जा रही हैं।”

आईएमडी केरल में मानसून के आगमन की घोषणा तब करता है, जब 10 मई के बाद किसी भी समय केरल के 14 केंद्रों और पड़ोसी क्षेत्रों में लगातार दो दिनों तक 2.5 मिमी या उससे अधिक वर्षा होती है, आउटगोइंग लॉन्गवेव रेडिएशन (ओएलआर) कम होता है और हवाओं की दिशा दक्षिण-पश्चिमी की ओर होती है।

IMD ने कहा है कि अगले पांच दिनों तक बिहार, झारखंड, बंगाल के गंगीय इलाके और ओडिशा में आंधी-पानी आ सकती है और बिजली कड़क सकती है। इसके अलावा इस दौरान बूंदाबांदी होने से तापमान में गिरावट आ सकती है। IMD के मुताबिक इस दौरान हवा 30 से 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल सकती है, जूबकि अरुणाचल प्रदेश, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर समेत पूर्वोत्तर में भारी बारिश हो सकती है।

IMD के मुताबिक, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर में भी इस दौरान बूंदाबांदी हो सकती है। हालांकि, गुजरात, महाराष्ट्र, विदर्भ, सौराष्ट्र, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश में गर्मी को प्रकोप जारी रह सकता है। मौसम विभाग ने कहा है कि 30 मई के बाद मध्य भारत में भी मौसमी स्थितियां बदलने वाली हैं और लोग राहत महसूस कर सकते हैं। (एजेंसी इनपुट्स के साथ)