फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मौसमलो आ गई खुशखबरी, सुस्त पड़ा Monsoon बढ़ गया आगे, UP में किस दिन होगी एंट्री?

लो आ गई खुशखबरी, सुस्त पड़ा Monsoon बढ़ गया आगे, UP में किस दिन होगी एंट्री?

Monsoon Update: कई दिनों से सुस्त पड़ा मॉनसून आखिरकार आगे बढ़ गया है। अब यूपी समेत कई अन्य राज्यों में पहुंचने वाला है। अगले तीन से चार दिनों में यूपी में एंट्री हो सकती है।

लो आ गई खुशखबरी, सुस्त पड़ा Monsoon बढ़ गया आगे, UP में किस दिन होगी एंट्री?
Madan Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 20 Jun 2024 11:06 PM
ऐप पर पढ़ें

Monsoon 2024 Update: पिछले कई दिनों से सुस्त पड़ा साउथवेस्ट मॉनसून आखिरकार गुरुवार को ओडिशा, छत्तीसगढ़, विदर्भ आदि के इलाकों में पहुंच गया। इन राज्यों में मॉनसून के पहुंचते ही बारिश का दौर शुरू हो गया है। भारतीय मौसम विभाग के आंकड़ों के अनुसार, इस मॉनसून सत्र में देश में सामान्य से 17 प्रतिशत कम वर्षा हुई है। 1 से 20 जून के बीच 92.8 मिमी की सामान्य वर्षा के मुकाबले 77 मिमी वर्षा हुई है। मौसम विभाग ने कहा, "दक्षिण-पश्चिम मॉनसून विदर्भ, छत्तीसगढ़, ओडिशा, उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और बिहार के कुछ भागों में आगे बढ़ गया है।"

मौसम विभाग (IMD) ने कहा कि अगले तीन से चार दिनों के दौरान गुजरात, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, ओडिशा, गंगा और उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, झारखंड, बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुछ और हिस्सों में दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के आगे बढ़ने के लिए स्थितियां अनुकूल हैं। सामान्य से दो दिन पहले भारतीय मुख्य भूमि पर पहुंचने और कई अन्य राज्यों को तेजी से कवर करने के बाद, बारिश लाने वाली प्रणाली ने 10 से 19 जून के बीच कोई महत्वपूर्ण प्रगति नहीं की, जिससे उत्तर भारत के लिए इंतजार बढ़ गया, जो भीषण गर्मी की लहर से जूझ रहा है। एक जून से, उत्तर पश्चिम भारत में 14.2 मिमी (सामान्य से 63 प्रतिशत कम), मध्य भारत में 58 मिमी (सामान्य से 33 प्रतिशत कम), दक्षिण प्रायद्वीप में 117.6 मिमी (सामान्य से 13 प्रतिशत अधिक) और पूर्व और उत्तर पूर्व भारत में 188.5 मिमी (सामान्य से चार प्रतिशत कम) वर्षा दर्ज की गई है।

इस सप्ताह की शुरुआत में अपने पूर्वानुमान में अपडेट करते हुए, मौसम विभाग ने कहा था कि जून के महीने में मॉनसून की बारिश सामान्य से कम होगी। दक्षिण-पश्चिम मॉनसून 19 मई को निकोबार द्वीप समूह के कुछ हिस्सों में आगे बढ़ा। इसके बाद इसने 26 मई तक चक्रवात रेमल के साथ दक्षिण के अधिकांश हिस्सों और बंगाल की खाड़ी के मध्य के कुछ हिस्सों को कवर किया। यह 30 मई को केरल और पूर्वोत्तर राज्यों में क्रमशः सामान्य से दो और छह दिन पहले पहुंचा। पिछले महीने, मौसम विभाग ने कहा था कि देश में चार महीने के मॉनसून सीजन (जून से सितंबर) में सामान्य से अधिक बारिश हो सकती है, जिसमें कुल बारिश 87 सेमी के LPA का 106 प्रतिशत होने का अनुमान है। पूर्वोत्तर भारत में सामान्य से कम, उत्तर-पश्चिम में सामान्य और देश के मध्य और दक्षिण प्रायद्वीपीय क्षेत्रों में सामान्य से अधिक मॉनसूनी बारिश की उम्मीद है। मौसम विभाग ने कहा कि देश के अधिकांश वर्षा आधारित कृषि क्षेत्रों को कवर करने वाले भारत के मुख्य मॉनसून क्षेत्र में इस मौसम में सामान्य से अधिक बारिश होने का अनुमान है।