फोटो गैलरी

Hindi News मौसमकहीं बारिश और तूफान ने मचाई तबाही, तो कहीं बर्फबारी से गिरा पारा; जानें देश के मौसम का हाल

कहीं बारिश और तूफान ने मचाई तबाही, तो कहीं बर्फबारी से गिरा पारा; जानें देश के मौसम का हाल

चेन्नई के अधिकांश इलाकों में मंगलवार को सुबह से बारिश का असर कम रहा। इससे अधिकारियों को बचाव और राहत कार्य तेज करने के लिए समय मिल गया है। वहीं, बारिश के कारण 12 लोगों की मौत हो चुकी है।

कहीं बारिश और तूफान ने मचाई तबाही, तो कहीं बर्फबारी से गिरा पारा; जानें देश के मौसम का हाल
Himanshu Jhaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्ली।Wed, 06 Dec 2023 06:42 AM
ऐप पर पढ़ें

देश के कुछ हिस्सों में 'मिचौंग' तूफान के कारण भारी बारिश हो रही है। वहीं, पहाड़ों पर बर्फबारी से पारा माइनस में चला गया है। मैदानी राज्यों में लोगों को अभी भी ठंड का इंतजार है। उत्तरी तटीय तमिलनाडु में चक्रवाती तूफान ‘मिचौंग’ के कारण चेन्नई और आसपास के जिलों में सोमवार को बाढ़ ने भारी तबाही मचाई। इससे राज्य में मरने वालों की संख्या बढ़कर 12 हो गई है। इसके साथ ही मंगलवार को चेन्नई और उसके आसपास के जलभराव वाले इलाकों में फंसे लोगों को बचाने के लिए नौकाओं और ट्रैक्टर का इस्तेमाल किया गया।

चेन्नई के अधिकांश इलाकों में मंगलवार को सुबह से बारिश का असर कम रहा। इससे अधिकारियों को बचाव और राहत कार्य तेज करने के लिए समय मिल गया है। बारिश से संबंधित घटनाओं में घायल 11 लोगों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है। चेन्नई के निगम मुख्यालय में मंगलवार को मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि राहत कार्य युद्ध स्तर किए जा रहे हैं। मूसलाधार बारिश से प्रभावित चेन्नई सहित नौ जिलों में कुल 61,666 राहत शिविर स्थापित किए गए हैं। इनमें अब तक भोजन के लगभग 11 लाख पैकेट और दूध के एक लाख पैकेट वितरित किए जा चुके हैं।

बारिश से संबंधित घटनाओं के कारण अब तक 12 लोगों की जान जा चुकी है, जिसमें पड़ोसी चेंगलपट्टू जिले में दीवार गिरने से हुई मौतें भी शामिल हैं। चेन्नई नगर निगम ने राहत कार्यों के लिए अन्य जिलों से पांच हजार श्रमिकों को बुलाया है। ये श्रमिक बचाव कार्य और राहत सामग्री वितरित करने के लिए उत्तरी चेन्नई के पेरियामेट और जलभराव वाले इलाकों में ट्रैक्टर और नौकाओं का उपयोग कर रहे हैं। चेन्नई में चरणबद्ध तरीकों से बिजली आपूर्ति को बहाल किया जा रहा है। 80 प्रतिशत इलाकों में बिजली आपूर्ति बहाल हो चुकी है।

चेन्नई हवाई अड्डे का हवाई क्षेत्र खुला
चेन्नई में बारिश रुकने के बाद यहां के हवाई अड्डे का हवाई क्षेत्र मंगलवार सुबह नौ बजे से खोल दिया गया। एयरलाइंस और अन्य हितधारकों को विमान के संचालन की योजना बनाने के लिए सूचित कर दिया गया है। अधिकारियों ने कहा कि हवाईअड्डे पर फंसे यात्रियों को निकालने के लिए प्रस्थान को प्राथमिकता दी जाएगी। चेन्नई हवाई अड्डे पर 21 विमान रुके हैं तथा टर्मिनलों के अंदर लगभग 1500 यात्री हैं। हवाई अड्डे के आउटलेट में पर्याप्त मात्रा में भोजन उपलब्ध है।

ओडिशा के दक्षिणी जिलों में अत्यधिक बारिश
गंभीर चक्रवात ‘मिचौंग’ के प्रभाव से मंगलवार को ओडिशा के दक्षिणी जिलों में हल्की से मध्यम बारिश जारी है। कुछ घंटों में चक्रवाती तूफान के आंध्र प्रदेश के नेल्लोर और मछलीपट्टनम के बीच तटों पर पहुंचने की संभावना है। मछुआरों को 4-6 दिसंबर के दौरान ओडिशा तट के आसपास गहरे समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गई है। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि सोमवार की शाम से ओडिशा के मलकानगिरी, कोरापुट, रायगढ़ा, गंजम और गजपति जिलों में बारिश दर्ज की गई है। ईएमडी के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने सोमवार को कहा था कि चक्रवात का ओडिशा पर कोई बड़ा प्रभाव नहीं पड़ेगा, लेकिन मंगलवार को पूर्वी राज्य में कुछ स्थानों पर भारी बारिश होने का अनुमान है।

आंध्र प्रदेश के दक्षिण तट से लोगों को निकाला
चक्रवाती तूफान ‘मिचौंग’ दक्षिण आंध्र प्रदेश तट के ऊपर पिछले छह घंटों के दौरान 10 किमी प्रति घंटे की गति से उत्तर की ओर बढ़ गया और केंद्रित हो गया। चक्रवाती तूफान के प्रभाव से आंध्र प्रदेश के कई हिस्सों में भारी बारिश जारी है। बापटला में मध्यम बारिश हो रही है और तेज हवाएं चल रही हैं। अनुमान है कि बारिश अभी और तेज हो सकती है। इस बीच राज्य के दक्षिण तट से सटे गांवों के करीब 900 निवासियों को एहतियात के तौर पर वहां से बाहर निकाल लिया गया है। बापटला के एसपी वकुल जिंदल ने बताया कि क्षेत्र में कच्चे घरों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित जगह पहुंचाया गया है। वहीं, 21 चक्रवात आश्रय स्थल स्थापित किए गए हैं।

कश्मीर में ठंड का प्रकोप बढ़ा, कई स्थानों पर पारा शून्य से नीचे
वहीं, कश्मीर में घाटी के ज्यादातर हिस्सों में पारा शून्य से नीचे चले जाने के साथ ही ठंड का प्रकोप बढ़ गया है। अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि अमरनाथ यात्रा के आधार शिविरों में शामिल दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले में पहलगाम में पारा शून्य से 4.3 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। यह सोमवार रात को घाटी में सबसे ठंडा स्थान रहा। बारामूला जिले में गुलमर्ग में तापमान शून्य से 2.3 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया, जबकि श्रीनगर में पांच दिन में पहली बार न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे 1.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। काजीगुंड में शून्य से 1.6 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान दर्ज किया गया, जबकि एक दिन पहले शून्य से 0.4 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान दर्ज किया गया था।

दक्षिण कश्मीर में कोकेरनाग शहर घाटी में इकलौता स्थान रहा जहां न्यूनतम तापमान शून्य से अधिक 0.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जबकि कुपवाड़ा में शून्य से 1.7 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान दर्ज किया गया। मौसम विज्ञान कार्यालय ने बताया कि आसमान में सामान्य रूप से बादल छाए रहेंगे लेकिन मौसम 10 दिसंबर तक मुख्यत: शुष्क रहेगा।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें