फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मौसमCyclone Updates: कहां तक पहुंचा चक्रवाती तूफान रेमल? IMD ने दी नई जानकारी, बारिश के बारे में भी बताया

Cyclone Updates: कहां तक पहुंचा चक्रवाती तूफान रेमल? IMD ने दी नई जानकारी, बारिश के बारे में भी बताया

Cyclone Updates: IMD ने कहा, "इसके एक गंभीर चक्रवाती तूफान के रूप में रविवार आधी रात के करीब सागर द्वीप और खेपुपारा के बीच बांग्लादेश और उससे सटे पश्चिम बंगाल के तटों को पार करने की काफी संभावना है।"

Cyclone Updates: कहां तक पहुंचा चक्रवाती तूफान रेमल? IMD ने दी नई जानकारी, बारिश के बारे में भी बताया
Himanshu Jhaलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्ली।Sat, 25 May 2024 07:00 AM
ऐप पर पढ़ें

IMD Cyclone Latest Updates: बंगाल की खाड़ी में बना दबाव का क्षेत्र और ज्यादा सघन होकर एक भीषण चक्रवाती तूफान का रूप ले सकता है। इस तूफान के 26 मई की मध्यरात्रि के आसपास पश्चिम बंगाल के सागर द्वीप व बांग्लादेश के खेपुपारा के बीच जमीन से टकराने का अनुमान है। मछुआरों को 27 मई की सुबह तक उत्तरी बंगाल की खाड़ी में समुद्र में न जाने की चेतावनी दी गई है।

भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने कहा है कि बंगाल की खाड़ी में बन रहा चक्रवात रविवार आधी रात को पश्चिम बंगाल के सागर द्वीप और बांग्लादेश के खेपुपारा के बीच टकराएगा। यह बंगाल की खाड़ी में इस मॉनसून पूर्व मौसम का पहला चक्रवात है। हिंद महासागर क्षेत्र में चक्रवातों के नामकरण की प्रणाली के अनुसार इसका नाम रेमल रखा जाएगा। यह चक्रवात शनिवार सुबह तक चक्रवाती तूफान में तब्दील हो जाएगा और शनिवार रात तक और भी तीव्र होकर एक गंभीर चक्रवाती तूफान का रूप ले लेगा। 

आईएमडी ने कहा, "इसके एक गंभीर चक्रवाती तूफान के रूप में रविवार आधी रात के करीब सागर द्वीप और खेपुपारा के बीच बांग्लादेश और उससे सटे पश्चिम बंगाल के तटों को पार करने की काफी संभावना है।" रविवार को चक्रवात के प्रभाव में हवा की गति 120 किलोमीटर प्रति घंटा तक पहुंच सकती है। 

मौसम विभाग ने मुताबिक, चक्रवाती तूफान के जमीन से टकराने पर पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों में भारी बारिश हो सकती है। मौसम विभाग ने 26 व 27 मई को कोलकाता, दक्षिण व उत्तर 24 परगना, पूर्व मेदिनीपुर और हावड़ा जिलों में भारी से बहुत भारी बारिश की चेतावनी दी है। इसके प्रभाव से 25 मई से उत्तर और दक्षिण ओडिशा में हल्की से मध्यम बारिश और गरज के साथ वर्षा होने की संभावना है। मौसम वैज्ञानिक उमाशंकर दास ने बताया कि ओडिशा के जिन जिलों में 26 मई को बारिश होने की संभावना है उनमें बालासोर, भद्रक और केंद्रपाड़ा शामिल है। वहीं 27 मई को बालासोर, भद्रक और मयूरभंज में बारिश हो सकती है।

तूफान के टकराने के समय पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के तटीय इलाकों में 1.5 मीटर तक ऊंची लहरें उठ सकती हैं। मौसम विभाग के अनुसार समुद्र में मौजूद मछुआरों को सलाह दी गई है कि वे तट पर लौट जाएं और 27 मई तक बंगाल की खाड़ी में न जाएं। 

राजस्थान में पारा 49 डिग्री पर पहुंचा
राजस्थान के फलोदी में पारा 49 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया जो इस साल देश में दर्ज किया गया सबसे अधिक तापमान है। शुक्रवार को उत्तर पश्चिम भारत और मध्य क्षेत्र के कुछ हिस्सों में प्रचंड गर्मी का प्रकोप रहा। आधिकारिक आंकड़ों से पता चला है कि पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, गुजरात और मध्य प्रदेश में कम से कम 23 स्थानों पर शुक्रवार को अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेल्सियस या उससे ऊपर दर्ज किया गया। दिल्ली, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, पश्चिम उत्तर प्रदेश और पश्चिम मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में 28 मई तक भीषण गर्मी जारी रहेगी।

केरल में भारी बारिश, तीन जिलों में ऑरेंज अलर्ट जारी
केरल में भारी बारिश जारी है। राज्य के कुछ हिस्सों में पिछले 24 घंटों में 200 मिमी से अधिक बारिश हुई है। भारी बारिश से कोच्चि और त्रिशूर सहित प्रमुख शहरों में शुक्रवार को जलभराव हो गया है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने पत्तनमथिट्ठा, कोट्टायम और इडुक्की जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। वहीं, हाल की में बारिश संबंधी घटनाओं में 11 लोगों की मौत हुई है।