फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मौसमCyclone Alert: बस आने वाला है चक्रवाती तूफान, 120 किमी की रफ्तार से तट से टकराएगा; इन राज्यों में होगी भारी बारिश

Cyclone Alert: बस आने वाला है चक्रवाती तूफान, 120 किमी की रफ्तार से तट से टकराएगा; इन राज्यों में होगी भारी बारिश

Remal Cyclone Alert: चक्रवात देर शाम तक तटों पर पहुंच सकता है। मौसम कार्यालय ने पश्चिम बंगाल और उत्तरी ओडिशा के तटीय जिलों में रविवार को अत्यधिक भारी वर्षा होने चेतावनी जारी की है।

Cyclone Alert: बस आने वाला है चक्रवाती तूफान, 120 किमी की रफ्तार से तट से टकराएगा; इन राज्यों में होगी भारी बारिश
Madan Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,कोलकाताSun, 26 May 2024 06:18 PM
ऐप पर पढ़ें

Cyclone Alert Updates: चक्रवात रेमल भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील हो गया है। भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने रविवार दोपहर में एक बुलेटिन में कहा कि गंभीर चक्रवाती तूफान घोषित रेमल बंगाल की खाड़ी के ऊपर उत्तर की ओर बढ़ रहा है और रविवार आधी रात के आसपास तीव्र होकर बांग्लादेश के खेपुपारा और पश्चिम बंगाल के सागर द्वीप के बीच से गुजरने की संभावना है। रेमल के बांग्लादेश के मोंगला में टकराने की संभावना है। कोलकाता में मौसम विभाग के अधिकारियों ने कहा कि इसकी अधिकतम गति 110-120 किमी प्रति घंटे से लेकर 135 किमी प्रति घंटे तक होगी।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) द्वारा रविवार सुबह आठ बजे जारी अद्यतन जानकारी के अनुसार, उत्तरी बंगाल की खाड़ी के ऊपर 'रेमल' गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल गया है और खेपुपारा से लगभग 290 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिणपूर्व और सागर द्वीप से 270 किलोमीटर दक्षिण-दक्षिणपूर्व में केंद्रित है। वहीं, सभी राजनीतिक दलों ने लोकसभा चुनाव के सातवें और आखिरी चरण के लिए रविवार को दक्षिण और उत्तर 24 परगना जिलों और कोलकाता के नौ निर्वाचन क्षेत्रों में रैलियां और रोड शो की योजना बनाई थी, लेकिन इनमें से कई को रद्द कर दिया गया। हवाई अड्डे के अधिकारियों ने कहा कि कोलकाता में एनएससीबीआई हवाई अड्डे को रविवार दोपहर से सोमवार सुबह 9 बजे तक बंद कर दिया गया। सभी 394 घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द कर दी गईं। इसके अलावा, सियालदह और हावड़ा डिवीजनों में कई लोकल ट्रेनें भी रद्द कर दी गईं। 

बंगाल सरकार ने कई तटीय गांवों से लोगों को निकालना शुरू कर दिया और रविवार को उन्हें चक्रवात आश्रयों में पहुंचाया। रविवार सुबह 8.30 बजे, रेमल खेपुपारा के दक्षिण-दक्षिण-पश्चिम में लगभग 260 किमी, मोंगला के दक्षिण में 310 किमी, सागर द्वीप समूह के दक्षिण-दक्षिणपूर्व में 240 किमी और दक्षिण 24 में कैनिंग के दक्षिण-दक्षिणपूर्व में 280 किमी दूर स्थित था। उस समय इसकी अधिकतम निरंतर हवा की गति 90-100 किमी प्रति घंटे से लेकर 110 किमी प्रति घंटे तक थी।

बंगाल, ओडिशा आदि में भारी बारिश की चेतावनी
मौसम संबंधी अन्य मॉडल के अनुसार, चक्रवात देर शाम तक तटों पर पहुंच सकता है। मौसम कार्यालय ने पश्चिम बंगाल और उत्तरी ओडिशा के तटीय जिलों में रविवार को अत्यधिक भारी वर्षा होने चेतावनी जारी की है। पूर्वोत्तर भारत के कुछ हिस्सों में भी 27-28 मई को अत्यधिक भारी वर्षा हो सकती है। चक्रवात के पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के तटीय इलाकों में पहुंचने पर 1.5 मीटर तक की तूफानी लहर के कारण निचले इलाकों में पानी भर जाने की आशंका है। मौसम कार्यालय ने मछुआरों को सोमवार सुबह तक उत्तरी बंगाल की खाड़ी में समुद्र में न जाने की सलाह दी है। पश्चिम बंगाल के दक्षिण और उत्तर 24 परगना तटीय जिलों में 26-27 मई के लिए 'रेड अलर्ट' जारी किया गया है, जहां कुछ क्षेत्रों में अत्यधिक भारी बारिश होने की आशंका है। इसके अलावा कोलकाता, हावड़ा, नादिया और पूर्व मेदिनीपुर जिलों में 26-27 मई के लिए 'ऑरेंज अलर्ट' जारी किया गया है, जहां 80 से 90 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने की आशंका है जिनका वेग 100 किलोमीटर प्रति घंटे रहने का अनुमान है।