DA Image
28 मार्च, 2020|1:43|IST

अगली स्टोरी

यूपी के परिवार ने खास सदस्य 'कालू' की मौत पर किया हवन, तेरहवीं में 1100 लोगों को खिलाया

last rites of dog kalu by up family

यूपी में मुजफ्फरपुर जिले में एक परिवार ने अपने पालतू कुत्ते 'कालू' की मौत जिस तरह से शोक मनाकर, विधिविधान से तेरहवीं व पूजा का आयोजन किया वह उससे पूरे इलाके में चर्चा का विषय बन गया है। कालू की मौत पर परिवार के लोगों ने न सिर्फ शोक मनाया बल्कि अपने रिश्तेदारों और दोस्तों को बुलाकर तेरहवीं भोज भी कराया।

 

तेरहवीं पर पहुंच लोगों में कालू की मौत से किसी प्रकार की नाखुशी नहीं दिखी लेकिन कालू को पालने वाला परिवार पूरे कार्यक्रम के दौरान शोक में दिखा। यह परिवार है डॉ ब्रह्मदत्त सैनी का।


हिन्दू धर्म को मानने वाले लोग परिवार के किसी सदस्य की मौत होने पर उसकी आत्मा की शांति के लिए तेरहवीं (13वें दिन की पूजा व भोज) करते हैं लेकिन डॉ सैनी 14 साल से घर की रखवाली कर रहे एक आम कुत्ते के प्रति जिस तरह से सम्मान से अंतिम संस्कार किया है अभूतपूर्व है। कालू की मौत 13 जनवरी को हुई थी।


डॉ. सैनी ने हमारे सहयोगी हिन्दुस्तान टाइम्स को बताया कि वह केवल एक डॉग नहीं था, बल्कि उनके परिवार बहुत ही करीबी सदस्य था। इसीलिए हम उसके लिए वो सब कुछ कर रहे हैं जो किसी एक फेमिली मेंबर के लिए किया जाता है।


उन्होंने बताया कि आज से 14 साल पहले कालू उन्हें गलियों में घूमता हुआ मिला था। उसे वह अपने घर ले आए थे। जब वह कुत्ते को घर लाए थे काफी ज्यादा आर्थिक तंगी से गुजर रहे थे। लेकिन जिस दिन से कालू उनके घर आया सारी समस्याएं दूर हो गई। कालू उनके परिवार के लिए बहुत ज्यादा लकी था।

कुछ समय से कालू बीमार था। मुजफ्फरनगर के वेटरिनरी अस्पताल में उसका इलाज चल रहा था। लेकिन कुछ हफ्तों की बीमारी के बाद वह नहीं रहा। उसके बढ़ती उम्र से संबंधित समस्याएं थीं। 

कालू की मौत के बाद सैनी परिवार ने अपने रिश्तेदारों के साथ जंगल में ले जाकर उसका अंतिम संस्कार किया। इसके बाद तेरहवीं से पहले कालू के नाम का हवन किया गया। इसके बाद परिवार, रिश्तेदार, दोस्तों और गांव वालों को बुलाकर तेरहवीं भोज का आयोजन किया गया। इस तेरहवीं के लिए करीब 1100 लोगों को आमंत्रित किया गया था।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:UP family performed havan and tehraveen on death of a special member dog Kalu 1100 people invited in bhoj ritual