फोटो गैलरी

Hindi News वायरल न्यूज़लिंग परिवर्तन के लिए कराई सर्जरी, 5 महीने का प्रेग्नेंट निकला ट्रांसजेंडर शख्स; बनेगा सीहॉर्स 'डैड'

लिंग परिवर्तन के लिए कराई सर्जरी, 5 महीने का प्रेग्नेंट निकला ट्रांसजेंडर शख्स; बनेगा सीहॉर्स 'डैड'

रिपोर्ट के मुताबिक, मार्को नाम का ट्रांसजेंडर शख्स स्तन हटाने (ब्रेस्ट रिमूवल) की सर्जरी कराने के बाद लिंग परिवर्तन की प्रक्रिया से गुजर रहा था। इस दौरान वह पांच महीने का प्रेग्नेंट पाया गया।

लिंग परिवर्तन के लिए कराई सर्जरी, 5 महीने का प्रेग्नेंट निकला ट्रांसजेंडर शख्स; बनेगा सीहॉर्स 'डैड'
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,रोमWed, 24 Jan 2024 01:13 PM
ऐप पर पढ़ें

ट्रांसजेंडर शख्स के प्रेग्नेंट होने का अजीबोगरीब मामला सामने आया है। दरअसल यह शख्स अपना सेक्स बदलवाने के लिए सर्जरी की प्रक्रिया से गुजर रहा था। तभी पता चला कि वह पिछले पांच महीने से प्रेग्नेंट है। अब डॉक्टरों ने उसे तत्काल अपना ट्रीटमेंट रोकने की सलाह दी है। मामला यूरोपीय देश इटली का है। माना जा रहा है कि यह इटली में इस तरह का पहला मामला है। इस तरह के दुर्लभ मामलों को "सीहॉर्स डैड्स" कहा जाता है। सीहॉर्स यानी समुद्री घोड़ा एक नर मछली होती है। यह जीव दुनिया भर में इसलिए जाना जाता है क्योंकि इसमें नर बच्चे को जन्म देता है। इसमें मादा अपने अंडे नर सीहॉर्स की थैली में डालती है। यहीं से "सीहॉर्स डैड्स" का कॉन्सेप्ट लिया गया है।

न्यूयॉर्क पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक, मार्को नाम का ट्रांसजेंडर शख्स स्तन हटाने (ब्रेस्ट रिमूवल) की सर्जरी कराने के बाद लिंग परिवर्तन की प्रक्रिया से गुजर रहा था। इस दौरान वह पांच महीने का प्रेग्नेंट पाया गया। रिपोर्ट में कहा गया है कि रोम के एक अस्पताल में मार्को की मास्टेक्टॉमी हुई थी। मास्टेक्टॉमी स्तन को हटाने के लिए की जाने वाली सर्जरी को कहते हैं। 

गर्भावस्था का पता चलने से पहले वह हिस्टेरेक्टॉमी की तैयारी कर रहा था। हिस्टेरेक्टॉमी ऑपरेशन एक सर्जरी प्रक्रिया है जिसमें गर्भाशय को शरीर से निकाल दिया जाता है। हालांकि डॉक्टरों ने गर्भाशय हटाने के खिलाफ चेतावनी दी है। रोम (इटली) से प्रकाशित होने वाले दैनिक समाचार पत्र ला रिपब्लिका की रिपोर्ट में कहा गया है कि ट्रांसजेंडर शख्स मार्को अपने बच्चे की बायोलॉजिकल मां होगा। लेकिन कानूनी तौर पर उसे पिता के रूप में रजिस्टर किया जाएगा। यानी मार्को अपने बच्चे का मां-बाप दोनों होगा।

इस बीच डॉक्टर ने मार्को को अपनी हार्मोन थेरेपी तुरंत रोकने की चेतावनी दी है। एंडोक्रिनोलॉजिस्ट डॉ. गिउलिया सेनोफोंटे ने कहा कि मार्को की हार्मोन थेरेपी तुरंत रोक दी जानी चाहिए वरना भ्रूण को खतरा हो सकता है। उन्होंने कहा, "अगर उसके ट्रीटमेंट को तुरंत नहीं रोका गया, तो इसके खतरनाक अंजाम हो सकते हैं।" उन्होंने कहा कि इससे गर्भावस्था की पहली तिमाही में मामला बिगड़ सकता है क्योंकि यह समय बच्चे के अंगों के विकास के लिए महत्वपूर्ण होता है।

डॉक्टर ने कहा कि हार्मोन थेरेपी मेंस्ट्रुअल साइकिल (मासिक धर्म) को केवल ब्लॉक कर सकती है। इससे प्रेग्नेंसी रुकने की कोई गारंटी नहीं है। उन्होंने कहा कि हार्मोन थेरेपी कराने वाली शख्स भी प्रेग्नेंट हो सकता है। हालांकि उन्होंने बताया कि लिंग परिवर्तन कराने वाले लोग इलाज के दौरान बताई जाने वाली गर्भ निरोधक तरकीबों का इस्तेमाल कर प्रेग्नेंसी से बच सकते हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें