DA Image
हिंदी न्यूज़ › वायरल न्यूज़ › माता-पिता के अंतिम शब्द थे- बेटा हिम्मत रखना, अब बिटिया बनी टॉपर
वायरल न्यूज़

माता-पिता के अंतिम शब्द थे- बेटा हिम्मत रखना, अब बिटिया बनी टॉपर

लाइव हिन्दुस्तान, नई दिल्लीPublished By: Gaurav
Thu, 05 Aug 2021 12:40 PM
माता-पिता के अंतिम शब्द थे- बेटा हिम्मत रखना, अब बिटिया बनी टॉपर

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की कक्षा 10वीं का रिजल्ट जारी कर दिया गया। कोरोना महामारी के कारण इस वर्ष सीबीएसई छात्रों का परिणाम तैयार करने के लिए मूल्यांकन नीति जारी की गई थी। मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल की 16 वर्षीय वनीशा पाठक ने सीबीएसई कक्षा 10वीं की टॉपर बनी हैं। वनीशा के माता-पिता की मौत कोरोना वायरस की वजह से हो गई थी।

दरअसल, भोपाल की वनीशा पाठक ने सीबीएसई की दसवीं की परीक्षा में 99.8 फीसद अंक हासिल किए हैं। एनडीटीवी की एक रिपोर्ट के मुताबिक, दो और बच्चों के साथ वो शहर की टॉपर हैं। वनीशा ने सीबीएसई की दसवीं कक्षा की अंग्रेजी, संस्कृत, विज्ञान और सामाजिक विज्ञान की परीक्षा में 100 और गणित में 97 अंक हासिल किए। वनीशा की माता का निधन 4 मई और पिता की मौत 15 मई को कोरोना के चलते हुई थी।

रिपोर्ट के मुताबिक, वनीशा ने अपने माता-पिता को अंतिम समय अस्पताल में जाते हुए देखा था। वनीशा का कहना है कि मेरे माता-पिता की यादों ने प्रेरित किया और यह मुझे जीवन भर प्रेरित करेगी। मेरी मां ने मुझसे कहा था कि खुद पर विश्वास करो, हम जल्द ही वापस आएंगे। मेरे पिता के आखिरी शब्द थे बेटा, हिम्मत रखना।
 
वनीशा ने अपने माता-पिता से किया हुआ वादा पूरा कर दिया है लेकिन खुशी के इस पल को साझा करने के लिए वे उसके साथ नहीं हैं। माता-पिता ने कोरोना संक्रमण के कारण अस्पताल में ही दम तोड़ दिया। परिवार में वह और उसका 10 वर्षीय भाई विवान है। वनीशा कहती हैं कि मैं छोटे भाई को देखकर संघर्ष करती रही। वनीशा के पिता जीतेंद्र कुमार पाठक एक वित्तीय सलाहकार थे और माता डॉ सीमा पाठक एक सरकारी स्कूल में शिक्षक थीं।

वनीशा की रूचि कविता लिखने में भी है। वनीशा भाई के साथ अपने मामा डॉ अशोक कुमार के साथ रहती हैं, जो भोपाल के गवर्नमेंट एमवीएम कॉलेज में प्रोफेसर हैं। उनकी मामी का कहना है कि दोनों बच्चे बहुत खास हैं, इन्होंने इतने अच्छे से परिस्थिति समझी है, ये बहुत समझदार बच्चे हैं।

संबंधित खबरें