फोटो गैलरी

Hindi News वायरल न्यूज़परिवार में मरा था एक आदमी, करना पड़ा दो का अंतिम संस्कार; आखिर क्या थी वजह

परिवार में मरा था एक आदमी, करना पड़ा दो का अंतिम संस्कार; आखिर क्या थी वजह

ब्रिटेन में एक व्यक्ति की मौत से उसका परिवार व्यथित था। परिवार के सभी सदस्यों ने भारी मन से मृत व्यक्ति का अंतिम संस्कार किया। मगर जो सच्चाई सामने आई वह हैरान करने वाली है।

परिवार में मरा था एक आदमी, करना पड़ा दो का अंतिम संस्कार; आखिर क्या थी वजह
Himanshu Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 11 Dec 2023 07:20 PM
ऐप पर पढ़ें

ब्रिटेन में एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है। जहां एक एक व्यक्ति की मौत से उसका परिवार व्यथित था। परिवार के सभी सदस्यों ने भारी मन से मृत व्यक्ति का अंतिम संस्कार किया। मृतक के नाम पर शोक सभा का भी आयोजित किया गया। ठीक तीन हफ्ते बाद, जब वे अपने परिवार के सदस्य को खोने के दर्द को भूलकर सामान्य स्थिति में आने की कोशिश कर रहे थे, तब उन्हें एक हैरान करने वाली सच्चाई का पता चला। एक आदमी अस्पताल से आया और उसने जो बात बताई उसे सुनकर परिवार को लोग हैरानी में पड़ गए।

अस्पताल से आए आदमी ने कहा, "जिस व्यक्ति का आप लोगों तीन सप्ताह पहले अंतिम संस्कार किया था, वह आपके परिवार का सदस्य नहीं थे... आपके परिवार के सदस्य का शव अभी भी अस्पताल में है। आएं और अंतिम संस्कार करें।" इसके बाद परिवार के लोग अस्पताल शव लेने गए और एक बार फिर उन्होंने साथ मिलकर उनका अंतिम संस्कार किया। ब्रिटेन की यह घटना चर्चा का विषय बनी हुई है।

इंडिपेंडेंट कि रिपोर्ट की मानें तो एक व्यक्ति को चार सप्ताह पहले ब्रिटेन के साउथ वेल्स के क्वम्ब्रान स्थित जॉर्ज यूनिवर्सिटी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। एक सप्ताह के इलाज के बाद उनकी मृत्यु हो गई। अस्पताल के अधिकारियों ने शव सौंप दिया और परिवार के सदस्यों ने उनका अंतिम संस्कार किया। ऐसे वक्त में जब परिवार एक शख्स के खोने के दर्द से धीरे-धीरे उबर रहा है, तीन हफ्ते बाद जॉर्जिया यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल के स्टाफ ने परिवार के सदस्यों को अजीब सा सदमा दे दिया।

अस्पताल का एक कर्मचारियों ने परिवार के दुखों को फिर से गहरा कर दिया। अस्पताल कर्मचारियों ने कहा, "सर, गलती हो गई। हमने गलती से आपको दूसरे व्यक्ति का शव सौंप दिया। आपने अंतिम संस्कार भी किया। हम यह भी नहीं जानते कि गलती के लिए माफी कैसे मांगे। आपके परिवार के सदस्य का शव अभी भी अस्पताल के शवगृह में है। आप आ सकते हैं और इसे ले जा सकते हैं।"

मृतक के परिजन तुरंत अस्पताल गए और शव को घर ले आए। एक बार फिर रिश्तेदारों के बीच अंतिम संस्कार किया गया। परिजनों ने कहा कि उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि ऐसी स्थिति होगी। उन्होंने दुख व्यक्त किया कि अस्पताल अधिकारियों की विफलता के कारण उन्हें मानसिक यातना का सामना करना पड़ा। इस बीच, जॉर्ज यूनिवर्सिटी अस्पताल के आधिकारिक प्रतिनिधि एन्यूरिन बेवन ने इस घटना पर प्रतिक्रिया दी।

बेवन ने कहा, "उस परिवार की स्थिति के बारे में सोचकर दुख होता है। हम इस घटना की पूरी जिम्मेदारी लेते हैं। इस घटना के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।" बेवन ने एक बयान जारी कर कहा कि हम ऐसी घटनाएं दोबारा नहीं दोहराने देंगे। हालांकि, इससे भी अधिक दुखद बात यह है कि अस्पताल के सूत्रों ने कहा कि परिवार के सदस्यों ने पहले जिसका अंतिम संस्कार किया तब यह भी नहीं पता किया कि यह किसका शव था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें