फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ वायरल न्यूज़इन्हें सब पता है! ऑटोरिक्शा ड्राइवर का ज्ञान देखकर इंटरनेट हैरान, एक-एक कर गिना दिए सारे नाम

इन्हें सब पता है! ऑटोरिक्शा ड्राइवर का ज्ञान देखकर इंटरनेट हैरान, एक-एक कर गिना दिए सारे नाम

शख्स ने ऑटोरिक्शा ड्राइवर का एक वीडियो शेयर करते हुए कहा कि वह मुंबई के बिजी ट्रैफिक में फंस गए थे। इसी दौरान जब उन्होंने अपने ऑटोरिक्शा ड्राइवर से बातचीत शुरू की तो वह चकित रह गए।

इन्हें सब पता है! ऑटोरिक्शा ड्राइवर का ज्ञान देखकर इंटरनेट हैरान, एक-एक कर गिना दिए सारे नाम
Amit Kumarलाइव हिन्दुस्तान,मुंबईFri, 02 Dec 2022 05:55 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

कहते हैं कि किसी व्यक्ति को कभी भी उसके पेशे या पहनावे से नहीं आंकना चाहिए। किसी के भी पास वह नॉलेज हो सकता है जो ऊचे पदों पर बैठे लोगों के पास नहीं होगा। इन्हीं बातों को सच साबित करता एक वीडियो सोशल मीडिया पर इन दिनों खूब वायरल हो रहा है। वीडियो में एक ऑटोरिक्शा चला रहे व्यक्ति ने बहुत सी चीजों के बारे में अपने विशाल ज्ञान से यात्री को हैरान कर दिया।

राजीव कृष्णा नाम के एक शख्स ने ऑटोरिक्शा ड्राइवर का एक वीडियो शेयर करते हुए कहा कि वह मुंबई के बिजी ट्रैफिक में फंस गए थे। इसी दौरान जब उन्होंने अपने ऑटोरिक्शा ड्राइवर से बातचीत शुरू की तो वह चकित रह गए। ऑटोरिक्शा ड्राइवर ने यात्री से पूछा कि वह किन देशों में गए हैं। इसी दौरान ड्राइवर ने कहा कि वह यूरोप के सभी 44 देशों के नाम जानता है। इसके बाद उन्होंने लगभग सभी 44 देशों के नामों को अल्फाबेटिकल ऑर्डर में बताना शुरू कर दिया। 

वह यही पर ही नहीं रुके, इसके बाद ड्राइवर ने यूरोप के प्रमुख देशों के राष्ट्रपतियों और प्रधानमंत्रियों के नाम भी बता डाले। वीडियो शेयर करते हुए यात्री ने लिखा, “महाराष्ट्र के सिंधुदुर्ग के मूल निवासी होने के नाते, उन्होंने अपने गृह राज्य के सभी 35 जिलों का नाम बताया। इतना ही नहीं, उन्होंने गुजरात के सभी 33 जिलों और यूपी के सभी 75 जिलों का नाम लिया।” इसके बाद ड्राइवर ने नोटबंदी, 2जी स्कैंडल और पनामा पेपर्स की मुख्य बातों के बारे में भी बताया।

यात्री ने लिखा, “उस आदमी (ड्राइवर) का नाम रामदेव है और उनकी उम्र 61 साल है। वह खुद को एक्टिव रखने के लिए रोजाना 8-9 घंटे रिक्शा चलाते हैं।" इसमें चौंकाने वाली बात यह है कि ड्राइवर ने कभी औपचारिक शिक्षा तक हासिल नहीं की थी। वह पढ़ाई इसलिए नहीं कर पाए क्योंकि उनका परिवार दिन में केवल दो वक्त का भोजन मुश्किल से मैनेज कर पाता था। कृष्णा ने लिखा, “उन्होंने जो भी ज्ञान हासिल किया था, वह खुद से ही किया है। उन्होंने खुद से अल्फाबेट, नंबर्स आदि का नॉलेज हासिल किया। व्यक्ति के पास इतना नॉलेज है कि वह एक समानांतर ब्रह्मांड में शीर्ष स्तरीय विश्वविद्यालय में डॉक्टरेट के साथ प्रोफेसर हो सकते थे।”

देखें वीडियो