फोटो गैलरी

Hindi News वायरल न्यूज़पत्नी को स्टेशन छोड़ने के लिए गया था शख्स, नाइट ड्रेस में वंदे भारत में फंस गया

पत्नी को स्टेशन छोड़ने के लिए गया था शख्स, नाइट ड्रेस में वंदे भारत में फंस गया

Vande Bharat: गुजरात का एक शख्स अपनी पत्नी को देश की नई नवेली और बहुचर्चित वंदे भारत एक्सप्रेस में चढ़ाने के लिए जाता है। वह ट्रेन के अंदरी अपनी पत्नी के बैग को सही जगह पर रखने में मदद करने लगता है।

पत्नी को स्टेशन छोड़ने के लिए गया था शख्स, नाइट ड्रेस में वंदे भारत में फंस गया
Himanshu Jhaलाइव हिन्दुस्तान,वडोदरा।Wed, 03 Apr 2024 11:33 AM
ऐप पर पढ़ें

Vande Bharat Train: रेलवे स्टेशनों पर हम अक्सर दोस्तों या रिश्तोंगदारों की उनकी यात्रा के लिए छोड़ने के लिए जाते हैं। कई बार हम उन्हें ट्रेन के अंदर तक पहुंचाकर आते हैं। आपने अक्सर चलती ट्रेन से लोगों को उतरते हुए देखा होगा, जो कि कई बार खतरनाक भी साबित हो जाता है। हालांकि, यह घटना खतरनाक नहीं, बल्कि मजेदार है। एक व्यक्ति जब अपनी पत्नी को ट्रेन में चढ़ाने के लिए स्टेशन जाता है, तभी यह घटना घटती है।

गुजरात का एक शख्स अपनी पत्नी को देश की नई नवेली और बहुचर्चित वंदे भारत एक्सप्रेस में चढ़ाने के लिए जाता है। वह ट्रेन के अंदरी अपनी पत्नी के बैग को सही जगह पर रखने में मदद करने लगता है। इसी दौरान ट्रेन में लगा ऑटोमैटिक दरवाजा बंद हो जाता है। वह शख्स अपनी पत्नी के साथ ट्रेन के अंदर ही फंस जाता है। 

इस घटना की जानकारी देते हुए महिला की बेटी कोशा ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर लिखा, ''मेरी मां को छोड़ने के लिए मेरे पिता स्टेशन पहुंचे थे। जब ट्रेन आई तो वह दूसरे भारतीय आदमी की तरह सामान लिया और सीटों के पास अच्छी तरह से रख दिया ताकि मां आराम से बैठ सके। लेकिन फिर अप्रत्याशित घटना घटी। ऑटेमैटिक दरवाजे के बंद होने की आवाज सुनाई देने लगी। इससे पहले कि मेरे पिता ट्रेन से बाहर निकल पाते दरवाजे बंद हो गए और वह अंदर फंस गए। उन्होंने टिकट कलेक्टर को इसके बारे में बताने और इमरजेंसी ब्रेक की गुहार लगाने की कोशिश की, लेकिन असफल रहे। ट्रेन अपनी गति पकड़ चुकी थी।''

महिला की बेटी ने आगे लिखा, “मेरी मां और पिताजी दोनों ही पहली बार वंदे भारत में यात्रा करने लगे। मेरी मां को मुंबई आना था। लेकिन मेरे पिताजी अगले स्टेशन सूरत पर ट्रेन से उतर गए। इस समय वह नाइट ड्रेस में ही थे। वडोदरा के लिए वापसी टिकट की तलाश कर रहे हैं। हमारी कार वडोदरा रेलवे स्टेशन के पास कहीं खड़ी है।''

कोशा द्वारा साझा किए गए एक स्क्रीनशॉट में ट्रेन के भीतर उनके-पिता को देखा जा सकता है। उसके पिता ने गुजराती में मजाकिया अंदाज में लिखा, "एक ही दिन में वंदे भारत और शताब्दी दोनों का अनुभव हुआ। यह प्रीमियम यात्रा की तरह है।''

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें