फोटो गैलरी

Hindi News वायरल न्यूज़नाक में थी कीड़ों की फौज, खा रहे थे मांस; स्थिति को देख डॉक्टरों ने भी पीट लिया माथा

नाक में थी कीड़ों की फौज, खा रहे थे मांस; स्थिति को देख डॉक्टरों ने भी पीट लिया माथा

फ्लोरिडा के एक शख्स की नाक से पिछले अक्टूबर में खून बह रहा था। पहले तो कभी-कभी रक्तस्राव होता था। इसके बाद समस्या की गंभीरता धीरे-धीरे बढ़ती गई। जब डॉक्टर ने इस स्थिति को देखा तो वह हैरान रह गए।

नाक में थी कीड़ों की फौज, खा रहे थे मांस; स्थिति को देख डॉक्टरों ने भी पीट लिया माथा
Himanshu Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 24 Feb 2024 07:12 PM
ऐप पर पढ़ें

नाक से लगातार खून बहने की समस्या से जूझ रहा एक शख्स जब इसके इलाज के लिए अस्पताल पहुंचा तो इस स्थिति को देख डॉक्टर भी हैरान रह गए। नाक से खून बहने की यह असामान्य घटना अमेरिका में प्रकाश में आई है। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, फ्लोरिडा के एक शख्स की नाक से पिछले अक्टूबर में खून बह रहा था। पहले तो कभी-कभी रक्तस्राव होता था। इसके बाद समस्या की गंभीरता धीरे-धीरे बढ़ती गई। 7 फरवरी को उनकी समस्या ने अप्रत्याशित मोड़ ले लिया. उसकी नाक से लगातार खून बह रहा था और उसकी नाक और होंठ सूज गए थे। 

शुरू हो गई थी सड़न
शख्स की यह हालत देख डॉक्टरों ने तुरंत कई टेस्ट किए। जब खून बहने के कारण का पता लगा तो वे भी हैरान हो गए। डॉक्टरों के मुताबिक, करीब 150 कीड़े उसकी नाक के साथ-साथ साइनस वाली जगहों पर अपना बसेरा बना चुके थे। ये कीड़े वहां का मांस खा रहे थे जिसके चलते वह नाक में सड़न शुरू हो गई थी और संक्रमण फैलने लगा था। उसमें कुछ कीड़े मनुष्य के नाखून जितने बड़े थे।

इस समस्या के समाधान के लिए डॉक्टर तुरंत मैदान में उतर आए। एक-एक कर नाक से कीड़े निकाले गए। शख्स की नाक के सभी मृत ऊतक हटा दिए गए और एंटीपैरासिटिक दवाएं लगाई गईं। डॉक्टरों ने कहा कि अगर यह स्थिति लंबे समय तक बनी रहती तो यह घातक हो सकती थी। डॉक्टरों ने मरीज की समस्या के बारे में कई प्रमुख तथ्य बताए। मरीज को करीब 30 साल पहले नाक का कैंसर हुआ था। उस समय डॉक्टरों ने नासिकरंध्र का एक हिस्सा हटा दिया और वहां एक गैप रह गया। इस वजह से संक्रमण के लिए अनुकूल परिस्थितियां बन गई थीं। 

लापरवाही से कीड़े नाम में घुश गए थे
इसी बीच अक्टूबर में मरीज ने मछली पकड़ने के दौरान नदी में हाथ धो लिया था, उसकी लापरवाही के कारण उनके हाथों के कीटाणु उनकी नाक में चले गए। चूंकि वहां पहले से ही संक्रमण के लिए अनुकूल वातावरण था, कीड़े बढ़ने लगे और रक्तस्राव होने लगा। डॉक्टरों ने बताया कि मरीज को फिलहाल एंटीपैरासिटिक ट्रीटमेंट दिया जा रहा है, उन्होंने कहा कि वह शख्स धीरे-धीरे ठीक हो रहा है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें