फोटो गैलरी

Hindi News वायरल न्यूज़विधानसभा में अखिलेश यादव ने ली ऐसी चुटकी, सीएम योगी भी हंस पड़े; गूंजे ठहाके

विधानसभा में अखिलेश यादव ने ली ऐसी चुटकी, सीएम योगी भी हंस पड़े; गूंजे ठहाके

विधासनभा में बजट सत्र के दौरान चर्चा के बीच में अखिलेश य़ादव ने सीएम योगी को लेकर ऐसी टिप्पणी की कि वह खुद भी हंसने लगे और सदन ठहाकों से गूंज उठा।

विधानसभा में अखिलेश यादव ने ली ऐसी चुटकी, सीएम योगी भी हंस पड़े; गूंजे ठहाके
Ankit Ojhaलाइव हिन्दुस्तान,लखनऊSun, 11 Feb 2024 06:46 PM
ऐप पर पढ़ें


सोशल मीडिया पर यूपी विधानसभा का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें अखिलेश यादव मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लेकर टिप्पणी करते हैं और फिर सदन ठहाकों से गूंज उठता है। हालांकि अखिलेश ने सीएम योगी का नाम नहीं लिया था। अखिलेश यादव की इस चुटकी पर खुद सीएम योगी आदित्यनाथ भी हंसते हुए नजर आए। बता दें कि योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि अखिलेश यादव अपने चाचा शिवपाल का भी सम्मान नहीं करते  और समाजवादी पार्टी में उन्हें उनका हक नहीं मिला है। 

इसके  जवाब में अखिलेश यादव ने चुटकी लेते हुए कहा, बात खानदान तक पहुंची है तो खानदान बढ़ाने के लिए भी कुछ करना चाहिए। अब तो बात  पहुंच गई जहां पहुंचनी थी। अखिलेश यादव की इस चुटकी पर पूरा सदन ठहाकों से गूंज उठा। विधानसभा  अध्यक्ष भी मुस्कुराते हुए नजर आए। अखिलेश यादव ने बजट को लेकर भी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि सरकार यह क्यों नहीं बताती कि जितना बजट आवंटित किया जाता है आखिर सरकार उसमें से खर्च कितना करती है। 

बजट सत्र के दौरान राम मंदिर को लेकर भी उन्होंने योगी आदित्यनाथ पर पलटवार किया और कहा कि भाजपा दावा कर रही है कि वह अयोध्या में श्रीराम को लेकर आई। यह भगवान राम का बहुत बड़ा अपमान है। हिंदू भगवान लोगों के दिलों में बसते हैं। राम तो हमेशा से थे। उन्हें लाने वाला कोई नहीं है। अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा को राम के नाम पर राजनीति बंद कर देनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि सरकार ने अयोध्या में जमीन की खरीद फरोख्त में फर्जीवाड़ा किया। सरकार को चाहिए कि वह खरीदी गई जमीनों की रज्सिट्री को सार्वजनिक करे। उन्होंने कहा, मैं कभी भाजपा के कहने पर अयोध्या नहीं जाऊंगा। जब श्रीराम बुलाएंगे तब जाकर दर्शन करूंगा। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से यह भी कहा कि मंदिर प्राण प्रतिष्ठा के लिए आपने कितनी तैयारी की। कितने दौरे किए लेकिन जब असली समय आया तो फोकस से बाहर हो गए। शायराना अंदाज में उन्होंने कहा, हुजूर ए आला आज तक खामोश बैठे हैं इसी गम में, महफिल लूट गया कोई सजाई जबकि हमने।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें