फोटो गैलरी

Hindi News वायरल न्यूज़नशामुक्ति केंद्र में हो रहा था बड़ा 'खेल', खिड़कियों के शीशे तोड़ 13 लड़कियां हो गईं फरार

नशामुक्ति केंद्र में हो रहा था बड़ा 'खेल', खिड़कियों के शीशे तोड़ 13 लड़कियां हो गईं फरार

पंजाब और हरियाणा की 17 लड़कियां उपचाराधीन थी। 13 युवतियों ने शनिवार देर रात नशा मुक्ति केंद्र की खिड़कियों के शीशे तोड़े और फ़रार हो गई। इसके बाद सभी 13 लड़कियां भाग निकलीं।

नशामुक्ति केंद्र में हो रहा था बड़ा 'खेल', खिड़कियों के शीशे तोड़ 13 लड़कियां हो गईं फरार
Madan Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,चंडीगढ़Sun, 10 Dec 2023 05:05 PM
ऐप पर पढ़ें

चंडीगढ़ से सटे हिमाचल के परवाणू कस्बे के एक नशामुक्ति केंद्र में उपचाराधीन 13 लड़कियां रात को खिड़कियों के शीशे तोड़ कर भाग गईं। दरअसल, नशा छुड़ाने के नाम पर बने केंद्र में बड़ा खेल हो रहा था। लड़कियों को ही नशा दिया जा रहा था। लड़कियों ने जब वहां से भागकर आस-पास के घरों में शरण ली तो लोगों को इसके बारे में पता चला। जिसके बाद पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने लड़कियों के परिजनों को मौके पर बुलाया और उन्हें उनको सौंप दिया। पुलिस को युवतियों ने आपबीती सुनाई और नशा मुक्ति केंद्र से भागने का कारण बताया।

उन्होंने बताया कि उन्होंने नशा मुक्ति केंद्र के संचालकों और कर्मचारियों पर उन्हें नशा देने और मारपीट का आरोप लगाया है। पंजाब और हरियाणा की ये लड़कियां नशा मुक्ति केंद्र में इलाज के लिए आई थीं। केंद्र में कुल 17 लड़कियां इलाज के लिए दाखिल थीं। अभी केंद्र में केवल 3 ही लड़कियां बची हैं।

17 लड़कियां उपचाराधीन थीं, 13 भागीं
परवाणू स्थित नशा मुक्ति केंद्र में पड़ोसी राज्य पंजाब और हरियाणा की 17 लड़कियां उपचाराधीन थी। 13 युवतियों ने शनिवार देर रात नशा मुक्ति केंद्र की खिड़कियों के शीशे तोड़े और फ़रार हो गई। इसके बाद सभी 13 लड़कियां भाग निकली। जैसे ही लोगों ने लड़कियों की आवाज सुनी तो उन्होंने पुलिस को बताया। पुलिस मौके पर पहुंची और कारण पूछा। पुलिस को युवतियों ने आपबीती सुनाई और नशा मुक्ति केंद्र से भागने का कारण बताया। उन्होंने बताया कि केंद्र में उनके साथ मारपीट की जाती थी और केंद्र के कर्मचारी ही उनको जबरदस्ती नशा देते थे। 

आरोपों की होगी जांच: डीएसपी
डीएसपी परवाणू प्रणव चौहान ने बताया कि जैसे ही पुलिस को जानकारी मिली वैसे ही टीम मौके पर पहुंची। कुछ युवतियों के परिजन आने के बाद वह उनके साथ चली गई। युवतियों ने केंद्र संचालकों पर जो आरोप लगाए हैं, उस बारे में पुलिस छानबीन कर रही है। 

दो माह पहले परवाणू के ही एक नशा मुक्ति केंद्र को किया था बंद
दो माह पहले परवाणू के ही एक अन्य नशा निवारण केंद्र का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था, जिसमें केंद्र के कर्मचारियों पर वहां भर्ती युवाओं को सिल्वर फॉइल में नशा उपलब्ध कराते बताया गया था। इसके बाद पुलिस ने केंद्र के संचालक के खिलाफ एफआईआर कर दी थी और केंद्र को बंद करने के आदेश दिए गए थे। उसके बाद उपचाराधीन युवकों के परिजनों ने उन्हें केंद्र से बाहर निकाल लिया था। अब परवाणू के ही एक और नशा मुक्ति केंद्र के कर्मचारियों पर गंभीर आरोप लगाकर लड़कियां फरार हुई हैं।

रिपोर्ट: मोनी देवी

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें