DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सातवें नवरात्र पर मां कालरात्रि की पूजा अर्चना

सातवें नवरात्र पर मां कालरात्रि की पूजा अर्चना

बिगड़ी मेरी बना दे, ओ शेरो वाली मैय्या.. के देवी गीत के साथ शनिवार को देवी मंदिरों में मां के सातवें स्वरूप की अराधना की गई। हर कोई दुर्गा मां कालरात्रि की पूजा अर्चना में लीन दिखाई दिया। देवी मंदिरों में दिनभर घंटा घड़ियाल की गूंज से माहौल भक्तिमय बना रहा। नवरात्र के सातवें दिन भोर से ही पूजन अर्चन का दौर शुरू हो गया। शनिवार को सातवें नवरात्र के साथ अष्टमी भी प्रारम्भ होने के चलते मां को प्रसन्न करने के लिए श्रद्धालुओं की आस्था सब पर भारी पड़ती नजर आई। कोई दीपदान करता दिखा, तो किसी ने मां को लाल चुनरी अर्पित कर सुख समृद्धि की मन्नतें मांगी। शहर के एनफील्ड दुर्गा मंदिर, रसूलपुर, लक्ष्मणपुर, जीवनगढ़, डाकपत्थर, हरबर्टपुर, जमनीपुर, जस्सोवाला, लखनवाला, सहसपुर, धर्मावाला, सभावाला, सेलाकुई, ढकरानी, ढालीपुर, कुल्हाल, कालसी आदि मंदिरों में सुबह से रात तक मां के दर्शन को श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा। देवी मंदिरों में दुर्गा चालीसा के पाठ के साथ भक्तिगीतों की गूंज रही। भक्तों ने धूप, दही, घी, कपूर, फूल, फल, चुनरी, सिंदूर, काजल, अगरबत्ती, पंचमेवा, पान आदि के साथ विधि विधान से मां कालरात्रि की पूजा अचर्ना कर पुण्य लाभ कमाया। कन्याओं को जिमायाशनिवार शाम सप्तमी के बाद अष्टमी प्रारम्भ होने पर क्षेत्र के अधिकांश लोगों ने दुर्गा पूजन कर कन्याओं को जिमाया। नगर क्षेत्र सहित ग्रामीण इलाकों में भी देर शाम महिलाओं ने अष्टमी पूजन के बाद कन्याओं को भोजन कराया। इसके बाद उन्होंने विधि विधान से मां दुर्गा की पूजा अर्चना कर अपना उपवास समाप्त किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Worship of Mother Kalaratri on 7th Navaratri