DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सड़क निर्माण शुरु न होने पर बहिष्कार का ऐलान

सड़क निर्माण शुरु न होने पर बहिष्कार का ऐलान

मिसरास पट्टी को सड़क से जोड़ने की मांग सेलाकुई। हमारे संवाददातासहसपुर ब्लॉक के अंतर्गत दुर्गम क्षेत्र मिसरास पट्टी के लोगों ने शासन प्रशासन पर क्षेत्र की उपेक्षा का आरोप लगाया है। कहा कि क्षेत्र को यातायात से जोड़ने के लिए लंबे समय से मोटर मार्ग के निर्माण की मांग की जा रही है। लेकिन आजतक सरकार व प्रशासन ने क्षेत्र के लिए सड़क स्वीकृत नहीं की गयी। गुस्सायें ग्रामीणों ने सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। ग्रामीणों ने कहा कि जब तक गांव के लिए सड़क की स्वीकृति कर निर्माण कार्य शुरू नहीं किया जाता है तब तक समस्त चुनावों का बहिष्कार किया जाएगा। ग्राम पंचायत मिसरास पट्टी को सड़क से जोड़ने की मांग को लेकर ग्रामीणों ने प्रदर्शन किया। ग्रामीणों ने शासन प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। ग्रामीणों ने कहा कि ग्राम पंचायत को यातायात सुविधा से जोड़ने के लिए लंबे समय से सड़क निर्माण की मांग की जा रही है। लेकिन आज तक उन्हे आश्वासनों के अलावा कुछ नहीं मिला है। कहा कि जनप्रतिनिधि भी चुनाव के दौरान आकर वायदे तो करते हैं लेकिन चुनाव जीतने के बाद क्षेत्र में देखने तक नहीं आते। ग्रामीणों ने कहा कि उन्होने निर्णय लिया है कि जब तक ग्राम पंचायत के लिए सड़क स्वीकृत कर उस पर निर्माण कार्य शुरु नहीं होता तब तक लोकसभा से लेकर त्रिस्तरीय पंचायत व विधानसभा के चुनावों का बहिष्कार करेंगे। जिसके लिए घर घर जाकर सभी से चुनाव में मतदान न करने के लिए जागरुकता अभियान शुरु किया गया है। प्रदर्शनकारियों में रेखादेवी, सावित्री देवी, बबीता, छजु, तुमन्सिंह, शमशाद, ज्ञानदेई, अमरसिंह, पुष्पादेवी, सुनीता, सुरेंद्र, सीमा, रतनी, मनोज, बबलू, प्रेमसिंह, सुंदरा, सुरेंद्र, लीलादेवी, नारायणसिंह, गजेंद्र सिंह, भोपालसिंह, सविता,वीरेंद्र सिंह, कुलदीप उनियाल, अंकितपा, तारा, खेमचंद, अनीता, प्रदीप, सीता, रीना, मनोज कुमार, रीना, सविता खन्ना, सुशीला, संदीप, अनाश, सुनील नेगी, हीरादेवी, भगवानदेई, प्रदीप, मधुबाला, राजेंद्र प्रसाद, स्वाती देवी आदि शामिल रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Until the construction of the road started the villagers of Misrass bar did declaration of all the elections