DA Image
29 मई, 2020|10:21|IST

अगली स्टोरी

शक्ति नहर के जर्जर पुलों से भारी वाहनों की आवाजाही पर लगे रोक

default image

शक्ति नहर पर 50 के दशक में बने पुलों को खनन के भारी वाहनों की आवाजाही से खतरा हो रहा है। लोगों ने ज्ञापन के माध्यम से इस पर रोक लगाने की मांग प्रशासन से की गई है। विकासनगर निवासी जोगिंदर सिंह बेदी ने इस आशय का ज्ञापन जिलाधिकारी को प्रेषित किया। बताया कि एक दर्जन से अधिक ग्रामीण क्षेत्रों के निवासियों की आवाजाही और ढकरानी, ढालीपुर और कुल्हाल पावर हाउस तक जाने के लिए शक्ति नहर पर आधा दर्जन पुलों का निर्माण पचास के दशक में किया था। जिनकी हालत अब जर्जर हो चुकी है। बावजूद इसके इन पुलों से खनन से भरे वाहन हर रोज बेरोकटोक गुजर रहे हैं। जिससे पुलों के क्षतिग्रस्त होने का खतरा बना हुआ है। इन पुलों के क्षतिग्रस्त होने से पावर हाउस तक जाने के लिए ऊर्जा कर्मियों को दस से पंद्रह किमी की अतिरिक्त दूरी नापनी पड़ेगी। साथ ही शक्ति नहर के दूसरे छोर पर बसे ग्रामीणों को भी आवाजाही में दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। उन्होंने इन पुलों से भारी वाहनों की आवाजाही पर तत्काल रोक लगाने की मांग प्रशासन से की है। उधर, एसडीएम सौरभ असवाल ने बताया कि शक्ति नहर पर बने पुलों से बड़े वाहनों की आवाजाही रोकने के लिए उचित कार्रवाई की जाएगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Restriction on movement of heavy vehicles from shaky bridges of Shakti canal