DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तराखंड › विकासनगर › कवियों ने देशप्रेम की कविताओं से भरा जोश
विकासनगर

कवियों ने देशप्रेम की कविताओं से भरा जोश

हिन्दुस्तान टीम,विकासनगरPublished By: Newswrap
Wed, 27 Jan 2021 05:30 PM
कवियों ने देशप्रेम की कविताओं से भरा जोश

विकासनगर। हमारे संवाददाता

वीर शहीद केसरी चंद राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय डाकपत्थर की ओर से ऑनलाइन काव्य गोष्ठी आयोजित की गई, जिसमें देश प्रेम की कविताएं साहित्यकारों की ओर से पढ़ी गई। सुरेंद्र नाथ सिंह ने काव्य पाठ करते हुए कहा कि देश प्रेम के रस में डूबे, देश का जय जय गान करें, देश पर सब कुछ वार दिया, उन वीरों का सम्मान करें।

रणजीत कौर ने अपनी कविता पढ़ते हुए कहा गणतंत्र दिवस की बेला आई, चारों ओर खुशियां छाई, वंदना खंडूड़ी ने कहा कि आओ हम सब मिलकर गणतंत्र दिवस मनाएं, झूमे नाचे खुशियों के गीत गाएं। शोभा वर्मा ने कहा कि मैं मर जाऊं तो मेरी सिर्फ पहचान लिख देना, मेरे खून से मेरे माथे पर हिंदुस्तान लिख देना, डा. राकेश मोहन नौटियाल ने कहा कि चलो आओ आज मूर्ति तोड़कर देखे, कुछ तो परिवर्तन करके देखें। इसके साथ ही देवेश्वरी खंडूड़ी, ललित डोभाल ने अपनी कविताएं पढ़ी।

संबंधित खबरें