DA Image
27 सितम्बर, 2020|1:41|IST

अगली स्टोरी

ई रिक्शा चला कर पेट पाल रहे राजमिस्त्री

default image

पछुवादून में कोरोना संक्रमण के चलते नहीं मिल रहा कामकोरोना के चलते लोग निर्माण कार्य करवाने से भी डर रहे हैंविकासनगर। हमारे संवाददाताकोरोना संक्रमण के कारण समाज के हर वर्ग की आर्थिक स्थिति पर प्रभाव पड़ा है। हालांकि इन दिनों कुछ क्षेत्रों में रोजगार के साधन मुहैया होने लगे हैं। लेकिन निर्माण क्षेत्र में लगे लोगों के सामने अभी भी परिवार के भरण पोषण का संकट बना हुआ है। आलम यह है कि लॉकडाउन से पहले प्रतिदिन आठ सौ रुपये कमाने वाले निर्माण कार्यों में लगे राजमिस्त्री रंजीत इन दिनों ई-रिक्शा चला रहे हैं, जिससे उन्हें मात्र दो सौ रुपये प्रतिदिन की ही कमाई हो रही है।लॉकडाउन के बाद से ही पछुवादून क्षेत्र में निर्माण कार्य ठप पड़े हुए हैं। जिससे इन निर्माण कार्यों में लगे राजमिस्त्री सहित अन्य मजदूर बेरोजगार हो गए है। अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होते ही कुछ लोगों ने अधूरे पड़े निर्माण कार्यों को पूरा करना शुरू कर दिया था, लेकिन पिछले एक महीने से बढ़ते संक्रमण के मामलों को देखते हुए यहां लोगों ने निर्माण कार्य कराने बंद कर दिए हैं, जिससे राजमिस्त्री का काम करने वाले बेरोजगार हो गए हैं। लॉकडाउन से पहले राजमिस्त्री का काम करने वाले जमनीपुर निवासी रंजीत कुमार ने बताया कि मार्च माह के अंतिम सप्ताह से काम नहीं मिलने के कारण परिवार के भरण पोषण के लिए इन दिनों ई-रिक्शा चला रहे हैं। जिससे एक दिन में दो सौ रुपये की ही कमाई हो रही है। इतने में परिवार का भरण पोषण करना मुश्किल हो रहा है। जीवनगढ़ निवासी राजमिस्त्री श्याम सिंह ने बताया कि लॉकडाउन के बाद से ही काम नहीं मिलने के कारण परिवार के भरण पोषण के लिए जीवनगढ़ चौराहे पर सब्जी की ठेली लगानी शुरू कर दी है। मार्टंडेल निवासी राजमिस्त्री संजय ने बताया कि निर्माण कार्य ठप होने से उसने कर्ज लेकर ई रिक्शा लिया, लेकिन कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के कारण ई रिक्शा से भी कमाई नहीं हो रही है। बैरागीवाला निवासी अशोक कुमार लॉकडाउन से पहले पछुवादून के कई गांवों में राजमिस्त्री का काम करते थे, लेकिन इन दिनों काम नहीं होने के कारण बेरोजगार है। बताया कि दूसरा काम शुरू करने के लिए भी जमा पूंजी नहीं बची है। जीवनगढ़ निवासी श्याम सिंह और राजेश कुमार भी राजमिस्त्री का काम छोड़कर सब्जी की ठेली लगा रहे हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Masons are carrying their rickshaws