DA Image
Monday, December 6, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तराखंड विकासनगरप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने पर कश्यप कल्याण बोर्ड गठित किया जायेगा: हरीश रावत

प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने पर कश्यप कल्याण बोर्ड गठित किया जायेगा: हरीश रावत

हिन्दुस्तान टीम,विकासनगरNewswrap
Sun, 14 Nov 2021 05:40 PM
प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने पर कश्यप कल्याण बोर्ड गठित किया जायेगा: हरीश रावत

पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस चुनाव संचालन समिति के अध्यक्ष हरीश रावत ने कहा कि उत्तराखंड में कांग्रेस की सरकार बनने पर कश्यप कल्याण बोर्ड गठित किया जायेगा। कहा कि कांग्रेस हमेशा गरीब और शोषितों के हितों की रक्षा के लिए अग्रणी भूमिका निभाती रही है।

कश्यप, कहार, निषाद भोई समन्वय समिति का दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन रविवार को संपन्न हो गया है। समापन के अवसर पर मुख्य अतिथि पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस चुनाव संचालन समिति के अध्यक्ष हरीश रावत का समिति के राष्ट्रीय समन्वयक राजाराम तथा समिति के युवा मोर्चा के अध्यक्ष नीरज कश्यप ने स्वागत किया। पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि प्रदेश की जनता भाजपा के कुशासन से उब चुकी है। उत्तराखंड में कांग्रेस की सरकार बनने जा रही है। आने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी कश्यप समाज को उचित प्रतिनिधित्व देगी। कहा कि कश्यप समाज ने कश्यप बोर्ड की स्थापना की मांग की है। कहा कि समाज के पिछडे़पन को देखते हुए प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने पर निश्चित रूप से कश्यप कल्याण बोर्ड गठित होगा। जिसमें कश्यप समाज के लोगों को उचित प्रतिनिधित्व दिया जायेगा। इस मौके पर समन्वय समिति के अध्यक्ष राजाराम ने कहा कि कश्यप समाज की हमेशा उपेक्षा होती रही। देश में 18 प्रतिशत आबादी होने के बावूजद समाज को किसी भी राजनीतिक दल ने तवज्जो नहीं दिया। लेकिन अब बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। जिस भी राजनीतिक दल में कश्यप समाज के लोग शामिल हैं, उसमें कश्यप समाज के लोगों को प्रतिनिधित्व के साथ विधानसभा व लोकसभा में टिकट दिए जांय। जिससे कश्यप समाज के लोग अपनी मांगों को उचित तरीके से लोकसभा और विधानसभा के सदन पर रख सकें। इस मौके पर समाज के युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीरज कश्यप ने कहा कि देश में जातिगत जनगणना होनी चाहिए। जिससे देश की सरकारों, राजनीतिक दलों को पता चल सके कि कश्यप समाज की आबादी कितना है और अब तक उसका शोषण ही हुआ है। इस मौके परघुमंतु आयोग के अध्यक्ष दर्जाधारी कर्मवीर इदाते, स्वामी गोरखनाथ, एमआर निषाद, जयप्रकाश निषाद, रामकुमार, चंद्रलाल सेवानिवृत जज, संतोष कश्यप, राजेंद्र धीकर, कैलाश निषाद, कृतराम वर्मा, सुषमा कश्यप, मदन कहार आदि ने विचार व्यक्त किये।

समन्वय समिति के अधिवेशन में कश्यप कल्याण बोर्ड के गठन, जातिगत जनगणना, कश्यप समाज के लोगों को प्रत्येक राजनीतिक दल में प्रतिनिधित्व देने, कश्यप समाज के लोगों के लिए आरक्षण की व्यवस्था सुनिश्चित करने सहित कई प्रस्ताव पारित किये गये। जिन्हे भारत सरकार और देश के सभी राज्यों की सरकारों को भेजा गया है।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें