DA Image
27 फरवरी, 2020|1:30|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माघ मरोज पर्व के जश्न में डूबा जौनसार बावर

default image

लोक संस्कृतिबावर के बाद जौनसार में शुरू हुआ मरोज का जश्न क्षेत्र के गांव-गांव में दावतों के साथ नाच गाने का दौर त्यूणी/ कालसी। हमारे संवाददाताजौनसार बावर क्षेत्र में एक माह तक मनाये जाने वाले माघ पर्व की धूम मची हुई है। शनिवार को बावर क्षेत्र के बाद रविवार को जौनसार में भी माघ पर्व का जश्न शुरू हो गया है। गांव-गांव में दावतों के साथ नाच गाने का दौर चल रहा है। पर्व को लेकर ग्रामीणों में खासा उत्साह बना हुआ है। शनिवार से शुरू हुए माघ पर्व का जश्न पूरे जौनसार बावर क्षेत्र में धूमधाम से चल रहा है। मरोज पर्व से शुरू हुआ माघ त्यौहार का दूसरा दिन पूरी तरह लोक संस्कृति के नाम रहा। डिमऊ, कोटा, लेल्टा, पाटा, सिमोग, कोटी, डांडा, दसोऊ, मुंडवाण, अतलेऊ, दोऊ, सराडी, जडाना, कांडी, कफाणी, टिकोऊ आदि गांवों में पर्व पर सुबह से ही गीत नृत्य का दौर चलता रहा। कालसी के मुंशीगांव में हर परिवार के लोगों ने एक दूसरे के घर जाकर मरोज के बकरे का मीट प्रसाद के रूप में ग्रहण किया। शाम को पूरे गांव के लोग स्याणा के घर गए और गीत नृत्य का आयोजन किया गया। इसमें ग्रामीणों ने ढोल दमाऊ की थाप पर लोक गीतों और नृत्यों का जमकर लुत्फ उठाया। ग्रामीणों ने हारुल की थाप पर जेठा भांणजा जातिया रोआ पाऊंणा आये..., डाडे फूलोले दाये..., ओरू के बेणी सुबडा शिलाई..., पाणी के भराये, ध्याणी नाजरो... आदि गीतों पर देर रात तक पर्व की खुशीयां बांटी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Jaunsar Bawar droned in celebration of Magh Maroj festival