DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कालसी ब्लॉक के सुरेऊ गांव में पेयजल योजना न होने से बूंद बूंद पानी के लिए तरस रहे हैं ग्रामीण

कालसी ब्लॉक के सुरेऊ गांव में पेयजल योजना न होने से बूंद बूंद पानी के लिए तरस रहे हैं ग्रामीण

पेयजल योजना नहीं होने से बढ़ी परेशानी

पेयजल निगम का दावा, क्षेत्र के लिए स्वीकृत हुई योजना

कालसी ब्लॉक के सुरेऊ गांव में कोई पेयजल योजना नहीं है। लोगों को दो किमी दूर चरगाड खड्ढ से पानी ढोना पड़ रहा है। हाल में गांव के प्रधान ने पाइपों से डेढ़ किमी लाइन बनाकर गांव की सड़क तक पानी पहुंचाया। इसके बावजूद गांव के लोगों को पर्याप्त जलापूर्ति नहीं हो पा रही है। पशुओं को पानी पिलाने के लिए लोगों को दो किमी दूर खड्ढ तक ले जाना पड़ रहा है।

उत्तराखंड गठन के 19 वर्ष पूरे हो चुके हैं। प्रदेश में बारी बारी से कांग्रेस और भाजपा की सरकारें बनीं। लेकिन कालसी ब्लॉक के सुरेऊ गांव में आज तक पेयजल योजना नहीं बनी है। ग्रामीणों को गांव से दो किमी दूर चरगाड खड्ढ से पानी ढोना पड़ रहा है। करीब छह सौ की आबादी वाले सुरेऊ गांव की महिलाओं, बच्चों और बुजुगों का समय पानी ढोने में बीत जाता है। इसके बावजूद घरों में पीने के लिए पर्याप्त पानी नहीं होता है। गांव के लोगों को कपड़े, बर्तन आदि धोने के लिए भी खड्ढ में जाना पड़ता है। गांव के लोग पशुपालन का काम करते हैं। लेकिन पशुओं के पीने के लिए पानी की बड़ी समस्या है। जिसके चलते ग्रामीणों को पशुओं को दो किमी दूर खड्ढ में ले जाकर पानी पिलाना पड़ता है। पानी की समस्या से निजात दिलाने के लिए ग्राम प्रधान अतर सिंह चौहान ने पेयजल लाइन बिछाने का काम किया। इससे पाइप लाइन सड़क तक ही बिछ पाई। गांव अब भी पांच सौ मीटर दूर है। इस पाइप लाइन में भी पर्याप्त पानी नहीं है। इसके लिए लोगों को पीने के पानी के लिए लाइन लगाकर बारी का इंतजार करना पड़ता है। जिसके लिए सुबह से लेकर शाम तक लोग पानी ढोने में रहते हैं।

गांव के अधिकांश लोगों के घरों में शौचालया व स्नानगृह बने हैं। लेकिन उनकी साफ सफाई के लिए भी पानी नहीं है। पूर्व प्रधान मीन सिंह चौहान, धन सिंह, लाल सिंह, करम सिंह, सूरत सिंह, गुलाब सिंह, स्वरूप सिंह, जीतराम आदि का कहना है कि अधिकारियों से लेकर मंत्रियों व नेताओं के कई चक्कर काट चुके हैं। लेकिन गांव के लिए शासन प्रशासन की ओर से पेयजल योजना नहीं बनाई गई। इससे गांव के लोगों को पीने के पानी के लिए तरसना पड़ता है।

इस संबंध में पेयजल निगम के अधिशासी अभियंता एसके बर्नवाल का कहना है कि जिला योजना के अंतर्गत गांव के लिए योजना स्वीकृत हो गई है। इसमें जल निगम की निगरानी में ग्राम पंचायत की पेयजल समिति योजना का निर्माण करेगी।

फोटो संख्या 2व ए: कालसी के ग्राम पंचायत सुरेऊ में पेयजल संकट से परेशान ग्रामीण

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:In the village of Surai in Kalsi Block there is a craving for drop water from drinking water because there is no drinking water scheme