DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तराखंड  ›  विकासनगर  ›  गैर मान्यता प्राप्त संगठनों की अनदेखी पर शिक्षकों में आक्रोश
विकासनगर

गैर मान्यता प्राप्त संगठनों की अनदेखी पर शिक्षकों में आक्रोश

हिन्दुस्तान टीम,विकासनगरPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 06:20 PM
गैर मान्यता प्राप्त संगठनों की अनदेखी पर शिक्षकों में आक्रोश

विकासनगर। कार्यालय संवाददाता

अनुसूचित जाति जनजाति शिक्षक एसोसिएशन ने शिक्षा विभाग में गैर मान्यता प्राप्त संगठनों को महत्व नहीं देने का आरोप लगाया है।एसोसिएशन की वर्चुअल बैठक में इस बात पर विरोध जताया गया। एसोसिएशन के पदाधिकारियों और शिक्षकों ने इस संबंध में अधिकारियों और सरकार के सामने विरोध जताने का निर्णय लिया है।

एसोसिएशन के महामंत्री जितेंद्र बुटोइया ने कहा कि उत्तराखंड सरकार के विद्यालयी शिक्षा विभाग की ओर से जारी किए गए फरमान में विभाग के किसी भी गैर मान्यता प्राप्त संगठनों की समस्याओं पर ध्यान नहीं देने की बात कही है। इस फरमान से हजारों शिक्षकों के हित प्रभावित होंगे। उन्होंने कहा कि मान्यता प्राप्त संगठन सिर्फ अपने मन माफिक समस्याओं और प्रस्तावों को विभागीय अधिकारियों समेत सरकार के समक्ष रखते हैं। ऐसे में संगठन के पदाधिकारियों के चहेते शिक्षकों को भी लाभ मिलता है। संगठन में उपेक्षित महसूस कर रहे शिक्षक ही अन्य संगठनों का गठन करते हैं। ऐसे में सरकार का इन शिक्षकों की बातों और समस्याओं को अनदेखा करना, उनके साथ सौतेला व्यवहार करना है। उन्होंने कहा कि सरकार के लिए संगठन की मान्यता के बजाय संगठन से जुड़े शिक्षकों की समस्याएं महत्वपूर्ण होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि इस संबंध में प्रदेश के सभी विधायकों को हर शिक्षक की ओर से ज्ञापन भेजा जाएगा। बैठक में प्रांतीय अध्यक्ष संजय भाटिया, राकेश कुमार, मोनिका रानी, अंजली आर्या, मंजुला आदि मौजूद रहे।

संबंधित खबरें