DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तराखंड › उत्तरकाशी › विश्व विद्यालय ने समायोजन में वरिष्ठता को किया दरकिनार
उत्तरकाशी

विश्व विद्यालय ने समायोजन में वरिष्ठता को किया दरकिनार

हिन्दुस्तान टीम,उत्तरकाशीPublished By: Newswrap
Wed, 22 Sep 2021 03:30 PM
विश्व विद्यालय ने समायोजन में वरिष्ठता को किया दरकिनार

श्रीदेव सुमन विवि ऋषिकेश कैंपस के लिए किए गए समायोजन में वरिष्ठ प्राध्यापकों के चयन न होने पर सवाल उठे रहे हैं। आरोप है कि इसमें वरिष्ठता और प्रशासनिक अनुभव को दरकिनार किया गया है।

रामचंद्र उनियाल स्नातकोत्तर महाविद्यालय उत्तरकाशी में तैनात हिंदी के वरिष्ठ प्राध्यापक प्रो. सुरेशचंद्र ममगांई ने उच्च शिक्षा निदेशालय सहित उच्च शिक्षा मंत्री को पत्र भेजकर आपत्ति दर्ज कराई है। प्रो. सुरेशचंद्र ममगांई ने कहा कि छह माह पहले श्रीदेव सुमन विवि ऋषिकेश कैंपस के लिए समायोजन आवेदन मांगे गए थे। वरिष्ठता के आधार उन्होंने आवेदन किया। लेकिन, उनकी वरिष्ठता को दरकिनार किया गया। चयनित तीन प्राध्यापकों में एक को छोड़कर बाकी उनसे कनिष्ठ हैं। जिन्हें प्रशासनिक अनुभव भी नहीं है। वरिष्ठता के आधार पर पहला समायोजन चयन उनका होना चाहिए था। वह गत 26 वर्षों से सेवा में हैं। उनके मार्गदर्शन में 17 छात्र-छात्राओं ने पीएचडी की है। इनमें अधिकांश नौकरी लग चुके हैं। प्रो. सुरेशचंद्र ममगांई ने कहा कि उनका प्रोफसर ग्रेड-पे 2012 का है। जबकि जिनका चयन किया गया उनका प्रोफेसर ग्रेड-पे 2015 के बाद का है। उन्होंने चयन समिति पर आरोप लगाए हैं कि वरिष्ठ प्राध्यापकों के समायोजन चयन में मानकों को ताक पर रखा गया है। समायोजन पद के लिए आवेदन जारी करने के बाद अपनी सुविधा अनुसार नियम बना रहे हैं। सीआर से संबंधित सूचना भी शासन की ओर से उन्हें नहीं दी गई। पदोन्नति में आधार मानी जाने वाली सीआर को समायोजन में आधार बता रहे हैं। संगीत विषय में भी इसी तरह ही वरिष्ठता को दरकिनार किया गया है।

संबंधित खबरें