DA Image
21 अक्तूबर, 2020|3:37|IST

अगली स्टोरी

उत्तरकाशी में ग्राम प्रधानों ने किया प्रदर्शन

default image

पांच सूत्रीय मांगों को लेकर ग्राम प्रधान संगठन ने जिला मुख्यालय सहित तहसील परिसर में सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। उन्होंने मांग पूरी न होने पर उग्र आंदोलन की चेतानी दी।बुधवार को ग्राम प्रधानों ने जिला मुख्यालय सहित डुंडा, चिन्यालीसौड, नौगांव, पुरोला, मोरी तहसील परिसर में पांच सूत्री मांगों को लेकर सरकार के खिलाफ धरना प्रदर्शन किया। प्रधान संगठन के जिला अध्यक्ष प्रताप रावत ने बताया कि कोरोना वैश्विक महामारी से जहां विभिन्न शहरों से रहने वाले उत्तराखंड प्रवासी भारी संख्य में वापस अपने गांव लौटे है। वहीं सरकार की ओर से सभी प्रवासियों को मनरेगा योजना के तहत गांव में रोजगार उपलब्ध कराने के निर्देश हुए हैं, किंतु मनरेगा गाइलाइन में अधिक रॉयल्टी काटने व विभागीय सहयोग न मिलने के कारण मनरेगा कार्य करना मुश्किल हो रहा है। उन्होंने जिले में रिक्त मनरेगा के कनिष्ठ अभियंताओं के पदों को तत्काल भरने, मनरेगा कार्य में रायल्टी 154 रुपय प्रति घन मीटर की जगह अन्य विभागों की तर्ज पर रॉयल्टी 110.11 रुपये प्रति घन मीटर की देने, मनरेगा में सीमेंट रेट 355 रुपये कट्टा है जबकि बाजार में 505 रुपये प्रति कट्टा है, इसमें संशोधित करने, मनरेगा में निर्माण सामग्री के टेंडर प्रक्रिया को समाप्त करने सहित अन्य मांगें कर रहे है। लेकिन सरकार उनकी मांगों की अनदेखी कर रहा है। उन्होंने मांग पूरी नहीं होने पर उग्र अंदोलन की चेतावनी दी। इस मौके पर ऊषा गुसांई, शीशपाल सिंह, मधु राणा, प्रीतम रावत, तनुजा चौहान आदि मौजूद थे। इधर, पुरोला, चिन्यालीसौड़ तहसील परिसर में अरविंद पंवार, अंकित रावत, गोविंद, नीता नौटियाल, सुरेंद्र पाल, बिशन लाल, धनसिंह पंवार आदि मौजूद थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Village princes demonstrated in Uttarkashi