DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तराखंड › उत्तरकाशी › टीएचडीसी की टीम ने किया क्षतिग्रस्त दीवार का स्थलीय निरीक्षण
उत्तरकाशी

टीएचडीसी की टीम ने किया क्षतिग्रस्त दीवार का स्थलीय निरीक्षण

हिन्दुस्तान टीम,उत्तरकाशीPublished By: Newswrap
Tue, 27 Jul 2021 05:00 PM
टीएचडीसी की टीम ने किया क्षतिग्रस्त दीवार का स्थलीय निरीक्षण

जिले में भारी बारिश के चलते चिन्यालीसौड़ बाजार के पास पांच करोड़ की लागत से निर्मित गेविन वाल के धंसने के मामले को लेकर मंगलवार को टीएचडीसी की पांच सदस्य टीम चिन्यालीसौड़ पहुंची। टीम ने कार्यदायी संस्था के ठेकेदार और स्थानीय लोगों के साथ स्थलीय निरीक्षण किया और क्षतिग्रस्त सुरक्षा दीवार का जायजा लिया।

मंगलवार को टीएचडीसी के पांच सदस्य अधिशासी निदेशक यूके सक्सेना, डीजीएम दिनेश शुक्ला, डिप्टी मैनेजर अतुल बहुगुणा, मनोज रतूड़ी, कार्यदायी संस्था ठेकेदार राजेन्द्र पन्त के साथ चिन्यालीसौड़ पहुंचे। उन्होंने स्थानीय लोगों के साथ पांच करोड़ की निर्मित गेविन वाल के धंसने का निरीक्षण किया। स्थानीय लोगों ने निदेशक को बताया कि उन्होंने टीएचडीसी के डीजीएम दिनेश शुक्ला को दो वर्ष पूर्व ही बता दिया था कि बाजार की सुरक्षा के लिए बनाई जा रही दीवार तभी सुरक्षित रह सकती है, जब शक्तिपुरम कॉलोनी से आ रहे बरसाती पानी के उपचार हेतु अलग से नारदाने की व्यवस्था की जाए। लेकिन टीएचडीसी के अधिकारियों द्वारा स्थानीय लोगों की बात नहीं मानी गई।इस दौरान स्थानीय लोंगों की अधिकारियों के साथ नोकझोंक भी हुई। टीएचडीसी के अधिशासी निदेशक यूके सक्सेना ने किसी तरह मामले को शांत कराया। उन्होंने कहा कि जल्द ही बरसात के पानी से चिन्यालीसौड़ बाजार व आसपास की बस्ती सहित सुरक्षा दीवार के लिए अलग-अलग नरदाने की व्यवस्था की जा रही है।

इस मौके पर टी एच डी सी के अधिशासी निदेशक यूके सक्सेना, डीजीएम दिनेश शुक्ला, डिप्टी मैनेजर अतुल बहुगुणा, मनोज रतूड़ी, कार्यदायी संस्था के ठेकेदार राजेन्द्र पन्त व नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष शूरवीर सिंह रांगड़, व्यापार मण्डल अध्यक्ष कृष्णा नौटियाल, दरम्यान सिंह रावत, खिमानन्द बिजल्वाण, ग्राम प्रधान विनोद पुरसोड़ा आदि थे।

संबंधित खबरें