Stairs to the ancient raghunatha temple shining by the municipality - पालिका ने चमकाई प्राचीन रघुनाथ मंदिर की सीढ़ियां DA Image
9 दिसंबर, 2019|3:37|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पालिका ने चमकाई प्राचीन रघुनाथ मंदिर की सीढ़ियां

नगर पालिका देवप्रयाग तीर्थनगर के प्राचीन रघुनाथ मंदिर को जाने वाली सीढ़ियों को आकर्षक रूप देने के लिए रंग-रोगन कर रही है। लंबे समय बाद इन सीढ़ियों की सुध लिए जाने पर तीर्थवासियों ने नगरपालिका की सराहना की है।भगवान श्रीराम की तपस्थली देवप्रयाग स्थित प्राचीन रघुनाथ मंदिर धार्मिक, ऐतिहासिक ही नहीं पुरात्वातिक दृष्टि से भी महत्वपूर्ण मंदिर है। इसका भव्य शिल्प व विशालता दूर से ही यात्रियों व पर्यटकों को आकर्षित करता है। दो हजार वर्ष से अधिक प्राचीन माने जाने वाले मंदिर तक जानेवाली सीढ़िया भी कम महत्व की नहीं है। 108 संख्या की इन सीढ़ियों पर राम नाम जपते हुए मंदिर तक पहुँचने का विधान है। इससे एक माला पूरी हो जाती है। कहते है इन सीढ़ियों का निर्माण गढ़वाल के प्रसिद्ध विद्वान ज्योतिष राम बहुगुणा ने 17वीं सदी मुगल बादशाह से मिले सोने से करवाया था। मुगल बादशाह जहाँगीर ने उनको चमत्कारिक भविष्यवाणी करने पर सोने से तोल दिया था। मंदिर के सिंह द्वार तक जाने वाली इन सीढ़ियों का उपयोग नगरवासी रामलीला प्रांगण, मंदिर मोहल्ला, क्षेत्रपाल व भुनेश्वरी मंदिर सहित राजमार्ग तक जाने के लिये भी करते हैं। जिस सिंहद्वार होकर सीढ़िया निकलती है, वह गोरखा शासन में बना था। नेपाल में इसे ढोका कहा जाता है। ईओ बीएस बिष्ट के अनुसार श्री रघुनाथ मंदिर का पूरे भारत मे महत्व को देखते यहाँ की सीढ़ियों को आकर्षक रूप दिया गया है। श्री रघुनाथ मंदिर समिति सचिव विजय जोशी व मंदिर पुजारी सोमनाथ भट्ट ने सीढ़ियों में रंगरोगन करने के लिए पालिका की सराहना की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Stairs to the ancient raghunatha temple shining by the municipality