DA Image
28 फरवरी, 2020|1:52|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चमाला की चौंरी पर हुआ देव डोलियों का मिलन चमाला की चौरी पर हुआ देवी-देवताओं का मिलन

चमाला की चौंरी पर हुआ देव डोलियों का मिलन
चमाला की चौरी पर हुआ देवी-देवताओं का मिलन

माघ मेला ‘बाड़ाहाट कु थौलु में तीसरे दिन चमाला की चौरी पर बाड़ागड्डी क्षेत्र के देवी-देवताओं का मिलन हुआ। इस दौरान श्रद्धालुओं ने देवताओं का आशीर्वाद लेने के साथ ही उनसे समस्याओं का समाधान भी जाना।पौराणिक माघ मेले में तीसरे दिन भी धार्मिक गतिविधियां जारी रहीं। वहीं बाड़ागड्डी क्षेत्र से हरि महाराज का ढोल, नाग देवता, खंडद्वारी देवी, हूणेश्वर महादेव, शंकर आदि देवी-देवताओं की डोलियां, ढोल- निशान लेकर बड़ी संख्या में ग्रामीण उत्तरकाशी पहुंचे। मणिकर्णिका घाट की ओर से नगर में प्रवेश कर इन लोगों ने काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा-अर्चना की। इसके बाद वर्षों से चली आ रही परंपरा के अनुसार भैरव चौक स्थित चमाला की चौंरी पर देवी-देवताओं का मिलन हुआ। यहां ग्रामीणों ने देव डोलियों से अपनी समस्याओं का समाधान जाना। इस दौरान ग्रामीणों ने देव डोलियों के साथ रांसो नृत्य किया। क्षेत्र के ग्रामीणों ने बताया कि शुक्रवार को देव डोलियां कोटी गांव में प्रवास करेंगी और शनिवार को एक बार फिर चमाला की चौरी पर मिलन के बाद देव डोलियां अपने मूल गांवों को लौट जाएंगी। इस मौके पर हरिमहाराज के पश्वा उतिम प्रसाद, डांग गांव के ग्राम प्रधान रोशन शाह, राम सिंह गुंसाई, शंभू सिंह गुसांई, यशवंत कलूडा, देवेंद्र नाथ, चतर सिंह, शुरवीर सिंह, सुंदर सिंह आदि मौजूद थे।फोटो कैप्शन17यूकेआई07 उत्तरकाशी में चमाला की चौरी पर रांसो नृत्य करते बाड़ागड्डी के ग्रामीण।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Meeting of Gods and Goddesses on the Chauri Chauri