DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तराखंड  ›  उत्तरकाशी  ›  नेलांग और जादुंग को आदर्श गांव के रूप में करें विकसित

उत्तरकाशीनेलांग और जादुंग को आदर्श गांव के रूप में करें विकसित

हिन्दुस्तान टीम,उत्तरकाशीPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 12:30 PM
नेलांग और जादुंग को आदर्श गांव के रूप में करें विकसित

उत्तराखंड के लेह-लद्दाख कहे जाने वाले नेलांग और जादुंग गांव के ग्रामीणों ने सीएम को ज्ञापन प्रेषित कर दोनों गांव को इनर लाइन से मुक्त करने, आदर्श गांव के रूप में विकसित करने की मांग की है।

नेलांग व जादुंग को पुन: विकासित करने की मांग को लेकर गत ग्रामीणों ने दो दिन पूर्व उत्तरकाशी पहुंचे सीएम तीरथ सिंह रावत से मुलाकात की और ज्ञापन दिया। इस मौके पर अनुसूचित जनजाति मोर्चा के जिलाध्यक्ष भवान सिंह राणा ने सीएम को बताया कि भारत के विशेषज्ञों ने इन दोनों गांवों को पुन: विस्थापित करने की पहल की है। वहीं गत 2018 के नवम्बर माह में जब पीएम मोदी उत्तरकाशी हर्षिल आये तो उन्होंने ग्रामीणों की पुन: घर वापसी की बात कही थी। लेकिन अभी तक कार्यवाही नहीं हो पाई। जिसके लिए उन्होंने सीएम को ज्ञापन प्रेषित किया और दोनों गांव को इनर लाइन से मुक्त करने, आदर्श गांव के रूप में विकसित करने, सहित दूर संचार की सुविधा दिए जाने और 1962 की कृषि फसल का मुआवजा देने सहित केन्द्र व राज्य सरकार की योजनाओं का लाभ दिए जाने की मांग की। बता दें कि 1962 से पहले भारत-चीन सीमा पर स्थित नेलांग गांव में करीब 40 परिवार और जादुंग गांव में करीब 30 परिवार निवास करते थे। जिनका मुख्य व्यवसाय कृषि एवं भेड़ पालन था। 1962 में भारत चीन के लड़ाई के दौरान सेना ने नेलांग और जादुंग के ग्रामीणों को गांव से हटा दिया था। जिसके बाद यहां के ग्रामीण अपने रिश्तेदारों के यहां बगोरी और डुंडा में निवास कर रहे हैं। लेकिन तब से लेकर आज तक प्रभावित विस्थापन की मांग कर रहे हैं। ज्ञापन प्रेषित करने वालों में जनजाति मोर्चा उत्तरकाशी भाजपा के कमल सिंह रावत, गंगाराम रावत, मदन सिंह डोगरा, माधवेंद्र रावत आदि मौजूद थे

संबंधित खबरें